लेखक परिचय

प्रमोद भार्गव

प्रमोद भार्गव

लेखक प्रिंट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार है ।

Posted On by &filed under जन-जागरण, पर्यावरण.


प्रमोद भार्गव

अब तक जीव-जंतुओं और कीट पतंगों की प्रजातियों के लुफ्त होने के अनुमान ही देश-विदेश में किए जाने वाले सर्वेक्षणों के निष्कर्ष लगाते रहे हैं,लेकिन ‘सांइस एडवांस‘ नामक जर्नल ने हाल ही में होश उड़ाने वाला अध्ययन छापा है। इसके मुताबिक परिस्थितिकी तंत्र इस हद तक बिगड़ता जा रहा है कि अब मानव प्रजातियों की विलुप्ति के साथ-साथ छठवें महाविनाश का खतरा सिर पर मंडारने लगा है। क्योंकि अब प्राणी-जगत में प्रजातियों के लुप्त होने की औसत दर सामान्य से एक सौ गुना ज्यादा बढ़ गई है। जिसमें दुर्लभ व आदिम प्रजातियों के मिल होने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। विलुप्ति के कारणों में प्रमुख रूप से वह तकनीक है,जिसे हमने आधुनिक व नवीनतम विकास का आधार माना हुआ है। जबकि वह तकनीक ही है,जिसने वन्य प्राणियों के शिकार और भूजल के दोहन से लेकर वायुमंडल का तापमान बढ़ाने वाली तकनीक के साथ संचार की ऐसी तकनीक भी दी जिसकी तरंगें पक्षियों का जीवन लील रही हैं।

ऐसे सर्वेक्षण लगातार आ रहे हैं,जो पृथ्वी पर जीवन के विनाश का संकेत देने वाले हैं। बावजूद न्यूनतम लोगों के लिए प्राकृतिक संपदा का अधिकतम दोहन करके भौतिक सुख के साधन जुटाए जाने के उपाय जारी हैं। यही वजह है कि संकेत,चेतावनी भर नहीं रह गए है,बल्कि मनुष्यता के विनाश पर आमदा होकर छठवें महाविनाश की और बढ़ रहे हैं। क्योंकि प्राणी जगत के लुप्त होने की रफ्तार सौ गुना ज्यादा हो गई है। करीब साढ़े छह करोड़ वर्ष पहले इस धरती पर महाकाय प्राणी डायनासोर खत्म हुए थे। साथ ही संपूर्ण धरा को एक शीतयुग ने अपने प्रभाव में ले लिया था। हालांकि डायनासोर की विुलुप्ति से पहले भी पृथ्वी से पांच मर्तबा जीवन का नाश हो चुका है और अब पृथ्वी ने छठे विनाश की और कदम बढ़ा दिए हैं।

ताजा शोध का अध्ययन करने वाले वैज्ञानिक ग्रेरांडो कैबालोस ने रिपोर्ट जारी करते हुए कहा है कि ‘हालांकि डायनासोर के विलुप्त होने के बाद से हालात बिगड़ते रहे हैं। नतीजतन तभी से प्रजातियों के लुप्त होने की गति बढ़ गई थी,परंतु इस पर ध्यान नहीं दिया गया। रिपोर्ट के मुताबिक १९०० से १९९० तक महज ९ प्रकार के कषेरूकी मसलन रीढ़ की हड्डी वाले प्राणियों की प्रजातियां विलुप्त हुईं,जबकि १९९० से लेकर अब तक इसी किस्म के ४७७ प्राणियों की जीवन लीला समाप्त हो चुकी है। हालांकि इन्हें १०,००० साल में खत्म होना चाहिए था। दरअसल प्राणियों के विनाश का यह वही दौर रहा है,जिस दौर में भूमंडलीय उदारवादी आर्थिक नीतियां लागू हुईं और अंधाधंुध प्रकृति के दोहन का सिलसिला तेज हुआ। रिपोर्ट में भयावह संकेत दर्ज है कि यदि दुनिया संभली नहीं तो वर्तमान प्रजातियों में से ७५ प्रतिषत प्रजातियां अगली दो पीढियां देखते-देखते दम तोड़ देंगी।

इसी तरह का एक अध्ययन पिछले साल प्रकाशित हुआ था,जिसमें दावा किया गया था कि बीते ३५ वर्ष में दुनिया की आबादी दोगुनी हो गई है। इसी कालखण्ड में वैश्विक जलवायु एवं पर्यावरणीय बदलावों के कारण तितली,मख्खी और मकड़ी जैसे अकेशरूकी कीट-पतंगों की संख्या में ४५ प्रतिषत की कमी दर्ज की गई है। यह अध्ययन इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजरवेशन नेचर ने जारी किया था। इसी संगठन ने भारत के साथ मिलकर पक्षी प्रजातियों पर मंडरा रहे खतरे का अध्ययन भी प्रस्तुत किया था। इसके अनुसार विश्व में पक्षियों की १४० प्रजातियां लुप्त हो चुकी हैं। २१३ विलुप्ति के एकदम कगार पर हैं। यही हालात बने रहे तो आगामी कुछ दशकों में ४१९ पक्षी प्रजातियां समाप्त हो जाएंगी। ७४१ ऐसी पक्षी प्रजातियां हैं,जो असुरक्षा के दायरे में हैं।

इसी अध्ययन में भारत की १७० से ज्यादा पक्षी प्रजातियां संकट में बताई गई हैं। इनमें से ८ पर संकट गहरा है। ये हैं, ऊनी गर्दन वाला सारस,अंडमान का पनकुकरी,अंडमान का ही हरा कबूतर,राख के रंग जैसा हरा कबूतर,लाल सिर वाला बाज,हिमालयन चील,दाढ़ी वाला चील और बीज खाने वाली चिडि़या। उनके अलावा अरूणाचल प्रदेश में पिछले साल खोजी गई चिडि़या,बुगन लियोचिचिल पर गंभीर खतरा है। भारत में मानसून के आगमन का पैगाम देने वाला दुर्लभ पक्षी चटाका पाखी भी खतरे में है। हालांकि यह पक्षी प्रवासी है। दक्षिण अफी्रका से चलकर भारत के ओडी़शा में इसे मानसून के ठीक पहले कभी-कभार देख लिया जाता है। इसीलिए इसे मानसूनी पक्षी भी कहा जाता है। पिछले चार दशक से देशी-विदेशी परिंदों के अलग-अलग पहलुओं पर काम करने वाले पक्षी विज्ञानी यूएन देव ने चटाका पाखी को भुवनेशवर के भरतपुर इलाके में देखा था। उनका भी मानना है कि इस पक्षी का संकेत इस बात का प्रतीक है,कि जिस क्षेत्र में इसकी उपस्थिति है,वहां बारिश जल्दी होने वाली है।

इसी साल अप्रैल माह में विश्व बैंक ने वैश्विक स्तर पर स्तनधारी प्राणियों का सर्वेक्षण कराया था। २१४ देशों में कराए अध्ययन की यह रिपोर्ट भी हैरान करने वाली है। भारत का नाम इस सूची में चौथे स्थान पर है और यहां ९४ स्तनधारी विलुप्ति के निकट हैं। इनमें सबसे ज्यादा संकटग्रस्त प्राणी बाघ है। हालांकि इसी साल की गणना में बाघों की संख्या बढ़ी बताई गई है। लेकिन कई ऐसे दुर्लभ प्राणी हैं,जो सरंक्षण के पर्याप्त उपायों के बावजूद भी घट रहे हैं। इनमें उत्तर पूर्व भारत में पाई जाने वाली नमदाफा गिलहरी,हिमालयन भेडि़या और अंडमान में विचरण करने वाली सफेद छंछुदर समेत ९४ जीव खतरे में है। वैसे दुनिया के जंगलों में रहने वाले प्राणियों में से अब तक ३ करोड़ प्राणी-प्रजातियों का नामकरण वैज्ञानिक कर चुके हैं। इनमें से २५ ऐसी प्रजातियां हैं,जो पूरी तरह विलुप्त हो चुकी हैं और १५३ विलुप्ति के भीषण संकट से जूझ रही हैं।

अतिरिक्त मानवीय हस्तक्षेप और तकनीकी विकास के चलते प्रकृति का कितना हश्र हुआ है,इसका खुलासा २००६ में ‘विश्व प्रकृति निधि ने अपनी एक रिपोर्ट में किया था। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तैयार की गई यह अध्ययन रिपोर्ट ‘लिविंग प्लेनेट २००६‘शीर्षक से जारी हुई थी। नव-उदारवादी आर्थिक नीतियों के लागू होने के बाद विकसित और विकासशील देशों द्वारा प्राकृतिक संपदा के अंधाधुंध दोहन के दुष्परिणाम इस रिपोर्ट से भी सामने आए थे। रिपोर्ट में १९७० से २००३ के बीच के वर्षों में किए आकलन के मुताबिक,हमने प्राकृतिक क्षमताओं का ३० प्रतिषत से ज्यादा दोहन तो किया,लेकिन उसके सरंक्षण की दृष्टि से लौटाया कुछ नहीं। फलतः १९६१ की तुलना में दोहन व प्रदूषण की गति तीन गुना अधिक बढ़ गई। यह अध्ययन विश्व की ३६०० मानव आबादियों,१३कषेरूकी प्रजातियों,६९५ थलचर जीवों,२७४ जलीय जीवों और ३४४ निर्मल जलचरों पर किया गया था। नतीजतन इस कालखंड में उष्णकटिबंधीय प्रजातियों की आबादी में ५५ प्रतिषत की कमी आई। समुद्री जीव-जंतुओं की २७४ प्रजातियां में से २५ फीसदी प्रजातियां लुप्त हो गईं। भारतीय समुद्रों में यह कमी और भी ज्यादा मात्रा में दर्ज की गई थी। दुनियाभर की नदियों के प्रवाह में ८३ प्रतिषत तक की कमी दर्ज की गई है। इससे भी जल-जीवों की लुप्तता बढ़ी है।

एक समय था जब मनुष्य वन्य-पशुओं के भय से गुफाओं और पेड़ों पर आश्रय ढूंढता था,लेकिन ज्यों-ज्यों मानव प्रगतिशील व सभ्य होता गया,त्यों-त्यों पशु असुरक्षित होते चले गए। धनुष-बाण के आविष्कार तक तो प्राणियों के शिकार की एक सीमा थी और मनुष्य क्षुधा पूर्ती के लिए ही शिकार करता था। किंतु बंदूक के आविष्कार और उसकी आसान पहंुच ने सबसे तेज दौड़ने वाले प्राणी चीता के निशान भारत की धरती से मीटा दिए। बंदूक के आमफहम होने से पहले १८वीं सदी तक प्रत्येक ५५ वर्ष में एक वन्य पशु की प्रजाति लुप्त होती थी। लेकिन १८वीं से २०वीं सदी के बीच तो १८ माह में एक प्राणी की प्रजाति नष्ट होने लग गई। एक बार जिस प्राणी की नस्ल समाप्त हो जाए तो उसे पुनः जीवित करना असंभव है। हालांकि वैज्ञानिक क्लोन पद्धति से इस कोशिश में लगे है कि डायनासोर जैसे भीमकाय प्राणियों की नस्ल फिर से अवतरित कर ली जाए।

बंदूक के बाद संचार तकनीक खासतौर से परिंदों,मधु मक्खियों और अन्य कीड़े-मकोड़े के विनाश का पर्याय बनी हुई है। एक समय था,जब भौर होते ही गौरैया हमारे घर-आंगन में फुदकती सहज ही दिख जाया करती थी। पानी में नहाकर खुद को पंख फटकार कर निचोड़ती भी थी। बाल-गोपालों के मन में मोद भरने वाली इस चिडि़या के दर्शन अब दुर्लभ हो गए हैं। इसके लुप्त होने के प्रमुख कारणों में मोबाइल टॉवर से फैलने वाला विकिरण और मोबाइल से फूटने वाली तरंगे बताई जा रही हैं। केरल में इस स्थिति का अध्ययन पर्यावरणविद् और प्राणी विज्ञानी डा. सैनुद्दीन पत्ताजे कर चुके है। उनका दावा है कि मोबाइल टॉवर एवं फोन से निकलने वाले विद्युत चुंबकीय विकिरण में श्रमिक मधुमक्खि और गौरैया की जीवन-लीला समाप्त करने की क्षमता है। श्रमिक मक्खी ही फूलों से मकरंद इकट्ठा करती है।

पत्ताजे ने अपने अध्ययन में पाया कि जब एक सेल फोन को छत्ते के करीब रखा गया तो ५ से १० दिन के भीतर उनकी बस्ती उजड़ गई। क्योंकि श्रमिक मक्खियां अपने छत्ते पर नहीं लौटी। वहां केवल रानी,अंडे और छत्ते में रहने वाली अवस्यक मधुमक्खियां ही बची रह गईं। दरअसल टॉवरों से पैदा होने वाली षक्तिशाली तरंगें श्रमिक मक्खियों के खोजी और उद्यमी दक्षता को नुकसान पहुंचाने के लिए पर्याप्त होती हैं। केरल में करीब छह लाख छत्ते हैं और एक से सवा लाख लोग मधुमक्खी पालन से अपनी आजीविका चलाते हैं। तय है,मधुमक्खी किसी क्षेत्र विषेश से विलोपित होंगी तो मानव आबादी कैसे बची रहेंगी ?

पूरे देश में आदिवासी और आदिम जन-जातियों के साथ भी ऐसा की कू्रर खिलवाड़ हो रहा है। अंडमान निकोबार की आदिम जनजातियों को देश की मुख्यधारा में भागीदार बनाने के नीतिगत उपायों के चलते ‘एनमे‘ और ‘चायिला‘जनजाति २००३ में लुप्त हुई,वहीं इसके पहले १९३१ में अंडमान की ही जांगिल जनजाति लुप्त हो गई थी। देश में राष्ट्रीय उद्याानों व अभयारण्यों का सरंक्षण, औद्योगिक-प्रौद्योगिकी विकास और बड़े बांघों के निर्माण के बहाने अकेले भारत में करीब ५ करोड़ लोग विस्थापित हुए हैं। इनमें अकेले आदिवासियों की संख्या करीब ४ करोड़ है। इनमें से अभयारण्यों से विस्थपित आदिवासियों के जीवन स्तर पर अध्ययन हुआ है। इस अध्ययन रिपोर्ट के मुताबिक सतपुड़ा टाइगर रिजर्व,माधव राष्ट्रीय उद्यान और कुनो-पालपुर से विस्थापितों के जीवनस्तर के आकलन में पाया गया कि इनकी आमदनी ५० से ९० प्रतिषत तक घटी है। कर्नाटक के बिलगिरी रंगास्वामी मंदिर अभयारण्य में लगी पाबंदी के चलते सोलिंगा प्रजाति के आदिवासियों को दो दिन में एक ही मर्तबा बमुश्किल भोजन नसीब हो पा रहा है। अब इन मानव जातियों के लुप्त होने की ही आशंका ज्यादा है।

आतंकवादियो की हिंसक हरकतों और कई नगरों पर बेजा कब्जों के चलते भी करीब ३.८० करोड़ लोग विस्थापित हुए हैं। इन विस्थापितों में भी कबिलाई जनजातियों की संख्या ज्यादा है। विपरीत हालातों में ये अपने समुदायों को कब तक बचाए रख पाते हैं,यह कहना आज के हालात में मुश्किल है ? क्योंकि आंतक के भय के चलते मानव कल्याण से जुड़ी अंतरराष्ट्रीय संस्थाएं भी इनकी पर्याप्त मदद भी नहीं कर पा रही है। जलवायु परिवर्तन के चलते पर्यावरणीय शरणार्थियों का लगातार बढ़ता संकट अपनी जगह कायम है। इसका सबसे ज्यादा खतरा बांग्लादेश को है। गोया,सांइस एडंवास में जीव-जंतुओं के साथ कालांतर में मानव प्रजातियों के लुप्त होने की जो शंकाएं जताई गई हैं,वे बेजह नहीं हैं। लिहाजा इस अध्ययन को मानव-समुदायों के विंध्वंस से पहले एक चेतावनी के रूप में लेने की जरूरत है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz