लेखक परिचय

संजय चाणक्य

संजय चाणक्य

Posted On by &filed under विविधा.


संजय चाणक्य

‘‘बच्चे भूखें सो गए होकर बहुत अधीर।।
चूल्हे पर पकती रही आश्वासन की खीर।।’’
जब भी मै फटे पुराने कपडे औरअर्धनग्न अवस्था में देश के भविष्यों को कूड़ों की ढेर पर देखता हू तो बरबस मेर मुंह से वर्षो पुरानी वह गीत फूट पड़ती है ‘‘बचपन हर गम से बेगाना होता है।’’ सोचता हू यह बच्चे सचमुच हर गम से बेगाने है या फिर पेट की आग और लाचारी ने इन्हे हर गम से बेगाना बना दिया है। खैर जो भी हो लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि क्या आजाद भारत का यही भविष्य है? लोहे की जंजीरो में जकड़ी मा भारती को मुक्त करानें से पूर्व बापू और सुभाष चन्द बोस ने इसी आजाद भारत की कल्पना की थी। क्या चन्दशेखर और भगत सिंह ने इसी हिन्दुस्तान का सपना देखा था? जहां सरकार की सभी महत्वाकांक्षी योजनाएं पहुचने से पहले ही दम तोड़ देती है। कूड़ों की ढेर पर अपना भविष्य तलाशनें वाले मासूमों के बारे में ही सोच रहा था कि बीते दिनों काशी विश्वनाथ के गंगा तट पर देश के भविष्य कहे जाने वाले नौनिहालों को चिता पर सजी हुई आग की लपटों के साथ खेलता हुआ देखकर मै दंग रह गया। इन मासूसों को पहले चिता की आग में अपना भविष्य झोकते हुए फिर उसके बाद चिता की उस राख में अपना भविष्य तलाशते हुए देखा तो मन द्रवित हो उठा। और मै सरकार और सरकार में बैठे माननीयों को कोसने लगा।
‘‘ जिसकी खातिर पेठ पर सहे लाख आघात।
अब सो जा कल मिलूगी भूख कह गई रात।।’’
तभी पीछे से किसी के दिल से निकला हुआ कसक भरी वेदना मेरे कानों को छूते हुए निकल गया। ‘‘साहब! क्या देख रहो हो अपनें पेट की आग तो चिता की आग से ही बुझती है।’’ वह उत्साहित था उसके चेहरे के हाव भाव से यह विल्कुल नही लग रहा था कि वह यह नही जानता है कि वह क्या कर रहा है। वह एकदम विंदास था। उसें इस बात का भी एहसास भी था कि एक दिन उसें भी यही आना है लेकिन उस समय सजी हुई चिता में धधकती आग को वह नही कोई और बांस की बम्बू से कुदेरेगा। कोई और क्यों उसके अपनें ही उसके चिता की राख में अपना भविष्य तलाशेगें। फिर भी वह इस काम से खुश था लेकिन उसकी बातों में दर्द के साथ साथ कडुवाहट और सच्चाई भी थी। उसकी उम्र भले ही दस साल ही है लेकिन दुनिया की ठोकर ने उसके मासूम दिल और कोमल मन को पत्थर बना दिया है। वह काशी विश्वनाथ के गंगा तट पर स्थित मरघट पर अपने मा-बाप और भाई के साथ गुजर बसर करने वाला गौरब है। गौरब दस वर्ष के उम्र में ही तकरीबन ढाई सौ लाशों को जला चुका है। जब मैने उससे पूछा कि पढ़ते हो तो तपाक से बोला पढ़ेगें तो खायेगें क्या? मै उसकी बातो को सूनकर अपने माथे पर बल दे ही रहा था कि मेरी नजर अर्ध जल चुकी लाश पर जा टिकी। उस समय मै भौच्चक रह गया जब आठ वर्षीय रोहित चिता के पास बास के बम्बे के सहारें खड़ा था वह मर्दा जलाने के लिए उत्साहित था और देखते ही देखते नन्हे-नन्हे हाथों के सहारें बासं की बम्बू से चिता की आग को कुरेदने लगा। वह क्या कर रहा है इसकी जानकारी उस मासूमों को है लेकिन यह नही मालूम कि इस देश का प्रधानमत्री कौन है। वह सोनिया गांधी को प्रधानमंत्री कहता है। अब जरा आप ही सोचिए इस देश के भविष्य का क्या होगा?
गौतम पन्द्रह साल का है। अब तक वह चार सौ से अधिक मुर्दा जला चुका है। इसें भी कुछ नही मालूम है। यह तीनों सगें भाई है। इनमें गौतम सबसे ंबड़ा है। होशियार भी मालूम पड़ता है लेकिन इसें भी देश-दुनिया सें कोई मतलब नही है। वह सिर्फ अपनें पेशें में होशियार है। जब हमने उससें पूछा कि तुम यह सब क्यों करते हो, तो पहले तो उसने तल्ख लहजे में कहा मेहनत करके पेट पाल रहे है साहब कोई चोरी थोड़े ही कर रहे है। जब मैने उससे हमदर्दी जताते हुए पूछा कि दिनभर में कितना कमा लेते हो तो वह थोड़ा नरम हो गया। बोला- साहब! एक मुदा्र जलाने के लिए मुझे पांच रूपये और मेरे भाईयों को दो-दो रूपयें मिलता है। दिनभर में सब मिलाकर चालीस-पचास रूपयें का काम हो जाता है। स्कूल क्यों नही जाते पूछने पर गौतम कहता है पढ़ने का तो बहुत मन करता है लेकिन क्या करे , पढ़ेगें तो घर में चूल्हा कैसे जलेगा और जब चूल्हा नही जलेगा तो अपाहिज मां और शराबी बाप के साथ-साथ हम सभी भाईयों की पेट की आग कैसें बुझेगी। गौतम सरकारी योजनाओं सें पूरी तरह अनभिज्ञ है। वह सरकारी विद्यालयों में निःशुल्क दी जानें वाली शिक्षा के बारें में कुछ नही जानता है। यहा तक कि पल्स पोलियों की खुराक क्या होती है नही मालूम है। कहता है आज तक किसी ने कोई दवा मेरे भाईयों को नही पिलाया है। जब मैने उससे पूछा कि पढ़ना चाहते हो वह मायूस हो उठा कहा अब मै पढ़कर क्या करूगा। फिर एकाएक उत्साहित होकर बोला साहब! मेरा छोटा भाई रोहित पढ़ेगा। बहुत तेज है। अभी साला दो सौ मुर्दा जला चुका है। उसका स्कूल में दाखिला करा दों तो वह पढ़ेगा। कह कर गौतम फिर अपने कार्यो में लग गया। कुछ देर तक मेरी टकटकी निगाहे उसे देखती रही और फिर इनके भाविष्य की कल्पना करने लगा। फिर एकाएक जेहन मे ंयह सवाल कौधने लगा कि आखिरकार एयरकंडीशन रूम में बैठे इस देश के भाग्य विधाताओं और योलना आयोग को देश के भविष्यों की बदत्तर हालत क्यों नही दिखाई दे रही है। सोचता हूं हमारे देश के नीति-नियंताओं को देश के भविष्य से कोई सरोकार है या फिर अपने भविष्य की चिन्ता। यहां सिर्फ गौतम, गौरब और रोहित ही नही, इनके जैसे दर्जनों मासूम चिता की राख में अपना भाविष्य तलाश रहे है और चिता की आग से अपने कुबने की पेट की आग बुझानें में जुटे है। शायद हमारे देश की सरकार गांधीजी के इसी सपने को सकार कर रही है।
‘‘ सो गए बच्चे गरीब के जल्दी जल्दी ।
जब मां ने कहा कि सपनों में आयेगें फरिश्ते रोटी लेकर।।’’
!!सत्यमेव जयते!!

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz