लेखक परिचय

आर. सिंह

आर. सिंह

बिहार के एक छोटे गांव में करीब सत्तर साल पहले एक साधारण परिवार में जन्मे आर. सिंह जी पढने में बहुत तेज थे अतः इतनी छात्रवृत्ति मिल गयी कि अभियन्ता बनने तक कोई कठिनाई नहीं हुई. नौकरी से अवकाश प्राप्ति के बाद आप दिल्ली के निवासी हैं.

Posted On by &filed under कविता.


मत कहो मुझे बोलने को.

मेरे मुख से फूल तो कभी झड़े नहीं,

पर एक समय था जब निकलते थे अंगारे.

एक आग थी,

जो धधकती थी सीने के अंदर.

एक स्वप्न था,

जो करता था उद्वेलित मष्तिष्क को.

एक लगन थी, कुछ कर गुजरने की.

लगता था, क्यों पनपे वह सब

जो नहीं है उज्जवल,

जो नहीं ले जाता आदर्श की ओर.

जीता था मैं सपनों में.

बनना चाहता था संबल,

साकार करने का उन सपनों को.

दृष्टि उठती थी कुछ लोगों की ओर.

समझता था मैं महान उनको,

मानता था आदर्श अपना.

पर देखते-देखते उतर गया,

मुखौटा उनका.

असली चेहरे पर जब पड़ी निगाह ,

पता चला,

वे तो अपनी दूकान सजाने में लगे हैं.

मेरे मुख से भी अंगारे निकलने बंद हो गये,

धीरे-धीरे आहिस्ता-आहिस्ता.

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz