लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under राजनीति.


प्रवक्‍ता पर पंकजजी का लिखा ‘खिसियायें नहीं सीखें राहुल गांधी से’ और संजयजी का ‘सडक पर उतरा शहजादा’ लेख पढा। लेखक ने वास्‍तविकता को नजरअंदाज किया है। मीडिया के झांसे में आकर राहुल गांधी की राजनीति से प्रभावित हो जाना दुर्भाग्‍यपूर्ण है। यहां हम लेखक की आंखें खोलने के लिए सिर्फ कुछ ही तथ्‍यों को प्रस्‍तुत कर रहे हैं।

गौरतलब है कि राहुल गांधी प्रदेश अध्‍यक्ष एवं युवा कांग्रेस में प्रजातांत्रिक ढंग से चुनाव की हामी तो भरते हैं पर कहीं ऐसा चुनाव करा नहीं पाए। राहुल वंशवाद के विरोधी तो हैं लेकिन वंशवाद की ही रोटी तोड रहे हैं। उनकी माताश्री पिछले 14 सालों से राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बनी बैठी हैं। न उनकी माताश्री और न स्‍वयं राहुल गांधी ने सामान्‍य कांग्रेस पार्टी के रूप में सेवा की। वे तो पैराशूट से राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष एवं राष्‍ट्रीय महामंत्री के पद पर बैठ गए। हैरानी की बात तो यह है कि जिस सोनिया ने कांग्रेस परिवार में अपनी शादी के बाद 20 वर्षों तक कांग्रेस पार्टी को साधारण सदस्‍यता के योग्‍य न समझा और वही मार्च 1996 में साधारण सदस्‍य बनीं और तीन मास के अंदर ही पार्टी की राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बन बैठी। राहुल गांधी ऐसे मुद्दों पर अपनी जुबान अवश्‍य खोलते हैं जिनसे उन्‍हें स्‍वयं को वाहवाही और पार्टी को वोट मिलते हैं। वे तो दलितों के बडे मसीहा बनते हैं पर प्रतिदिन बढती कीमतों के बीच पिस रहे दलितों का ध्‍यान नहीं करते और बढती कीमतों पर अपनी जुबान बंद रखते हैं। कलावती को प्रसिद्धि तो दी पर जो उससे वादा किया उसे पूरा नहीं किया। तो ऐसे व्‍यक्ति को क्‍या भारत का युवक आदर्श मान सकते हैं।

लेखक शायद यह भी भूल रहे हैं कि राहुल गांधी उस परिवार से ताल्‍लुक रखते हैं जो खाता तो भारत का है, जो सत्ता-भोग तो भारत में करता है और भारतीयता से प्‍यार का ढोंग रचाता है। पर जब विवाह की बात आती है तो उसके पिता राजीव गांधी को कोई भारतीय युवती भा न सकी और यही रिपोर्ट यही राहुल के बारे में भी आ रही है। कहां तक सच है यह तो वही जाने पर इतनी उम्र बीत जाने के बाद भी विवाह की बातें टाली जाती हैं तो लगता है धुंआ यूं ही नहीं उठ रहा।

एक बार नहीं अनेकों बार उन्‍होंने जब मुंह खोला है तो बचकानी बातें ही की हैं। उनके भारतीय इतिहास ज्ञान पर तरस आता है। असल में वे मुस्लिम वोट को ही बटोरना चाहते हैं। यही कारण है कि उन्‍होंने एक बार यह कह डाला कि यदि उनके पापा और परिवार का कोई सदस्‍य 1992 में सक्रिय राजनीति में होता तो बाबरी मस्जिद नहीं ढहता। पर उन्‍होंने यह नहीं बताया कि उनकी माताजी को तब सक्रिय होने से किसने रोका नहीं था। अब हलवा-मंडा खाने के लिए कांग्रेस के युवराज अवश्‍य आगे आ रहे हैं।

एक बार तो राहुल गांधी ने तहलका साप्‍ताहिक से वार्ता में यह भी कह दिया था कि मैं चाहता तो पच्‍चीस वर्ष की आयु में ही देश का प्रधानमंत्री बन जाता। यह उन्‍होंने जिस आधार पर कहा उसी वंशवाद के विरोध का ढोल राहुल गांधी पीट रहे हैं। यह अलग बात है कि तब तहलका के संपादक ने उनकी झेंप को मिटाने के लिए कह दिया था कि राहुल ने अनौपचारिक भेंट में कहा था पर सत्‍य तो सत्‍य है। डींग तो राहुलजी ने अवश्‍य मारी थी चाहे वह अनौपचारिक बातचीत में हो या अनौपचारिक बातचीत में।

आज तक उन्‍होंने गरीबी और भ्रष्‍टाचार पर मुंह नहीं खोला क्‍योंकि उनकी अपनी और पार्टी की पोल खुल जाएगी। लगता है लेखक पंकजजी मीडिया की बयार में बह गए हैं। सच्‍चाई तो यह है कि राहुल गांधी का राजनीतिक गुब्‍बारा मीडिया ने ही फुलाया है जो कभी भी फूट सकता है।

-विकास

Leave a Reply

8 Comments on "राहुल का गुब्‍बारा तो मीडिया ने फुलाया है…"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Raj
Guest

बिलकुल सच कहा है वैसे भी राहुल मंद्भुदी है और मीडिया उसकी गुलाम है वो जो कहेंगा चाहे वो कपोल्काल्प्निल बैटन हो मीडिया उसको इतना उचल देती है की सामान्य जनता को वो सब सच लगने लगता है भाई सुरेश ने सही कहा ६-म के बारे में

Amba Charan
Guest
राहुल किस वंशवादी व्यवस्था का विरोध करते हैं? लगता हैं उन्हें केवल दूसरे दलों का ही वंशवाद अखरता है। गांधी परिवार ने तो रायबरेली और अमेठी संसदीय क्षेत्रों को अपनी जददी जायदाद बना रखा है। रायबरेली और अमेठी से तो उन्होंने कभी अपने परिवार से अन्य किसी व्यक्ति को चुनाव ही लड़ने नहीं दिया। क्या इन दोनों क्षेत्रों में योग्य युवा व महिला व्यक्तियों का इतना अकाल है कि उन्हें दिल्ली से नेता ‘इम्पोर्ट’ करने पड़ते हैं। श्रीमति सोनिया गांधी और राहुल बाबा हमें यह कह कर मूर्ख बनाना चाहते हैं कि उनके दोनों संसदीय चुनाव क्षेत्रों में प्रतिभा का… Read more »
डॉ. मधुसूदन
Guest

सुना है, कि राहुल गांधीने श्रीनगरमे २६ जनवरी २०१० मे तिरंगा लहराकर राष्ट्र गीत गाया था, क्या सच है?

सुरेश चिपलूनकर
Guest
मीडिया में इस बात का उल्लेख कहीं नहीं हो रहा कि राहुल गाँधी सिर्फ़ एक सांसद हैं और एक महासचिव, फ़िर उनके स्वागत, सुरक्षा, आवागमन आदि में प्रत्येक दौरे में लाखों रुपये खर्च हो रहे हैं वह किसकी जेब से, और किस कीमत पर? यदि उन्हें जेड श्रेणी की सुरक्षा मिली है तो यह सुरक्षा तो उमा भारती को भी मिली है, जबकि उमा भारती को तो उज्जैन की सड़कों पर गाय को रोटी खिलाते देखा जा सकता है, लेकिन गाँधी परिवार के लिये यह तामझाम क्यों किया जाता है, क्या इसलिये कि हम इनके गुलाम हैं? मीडिया ने तो… Read more »
RAJNISH PARIHAR
Guest

बिलकुल सही..ये मिडिया ही है जो हर छोटी सी बात को बढ़ा चढ़ा कर पेश करते है…!राहुल की खुद की पहचान एक शहजादे से ज्यादा क्या है!हर जगह उनका स्वागत करने पुलिस के बड़े बड़े अधिकारी और मंत्री किस हसियत से आ जाते है!महासचिव तो और भी बहुत है,फिर उन्हें इतना महत्त्व क्यूँ?एक दिन दलित के घर खाना खाने से दलित की जिंदगी में क्या बदलाव आएगा..!अच्छा हो यदि वे अपनी बजाय उनकी जिंदगी सुधारने हेतु कुछ ठोस कार्य करके देखें!!

wpDiscuz