लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under कविता.


-रवि श्रीवास्तव-
railway

देश की रीढ़ बनी ये रेल,
आख़िर क्यों हो रही है फेल ?

जाने कैसे हो गई बीमार
हो रही हादसे का शिकार ।

कभी एक दूसरे से टकराना,
कभी पटरा से नाचे उतर जाना।

असुविधा भरा हो रहा सफर,
यात्रियों को सताता असुरक्षा का डर।

ऐसे गम्भीर मुद्दे पर राजनीति न खेलें,
राजनीति की इस चोट को आम आदमी झेले।

किसकी लापरवाही है ये किसकी ज़िम्मेदारी है,
बढ़ते ट्रेन हादसों पर रोक लगाना ज़रूरी है।

बाते करने से नहीं कुछ कर दिखाने से होगा,
इसकी हालत ऐसी है तो बुलेट ट्रेन का क्या होगा।

मुसाफ़िरों की जिंदगी से न खेलो ऐसा खेल,

देश की रीढ़ बनी ये रेल,
आख़िर क्यों हो रही है फेल ?

Leave a Reply

2 Comments on "रेल क्यों हो रही है फेल"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
pradeep
Guest

रेल पर बिल्कुल सटीक बात कही है

pradeep
Guest

सही कह रहे हो….रेल के फेल होने पर ध्यान देने की जरुरत है और कारगर उपाय करने का धरातलीय उपाय करना ही चाहिये

wpDiscuz