लेखक परिचय

मृत्युंजय दीक्षित

मृत्युंजय दीक्षित

स्वतंत्र लेखक व् टिप्पणीकार लखनऊ,उप्र

Posted On by &filed under राजनीति.


सर्वे से उत्साहित भाजपा
मृत्युंजय दीक्षित
उत्तर प्रदेश में चुनावी सरगर्मियां अब चरम सीमा पर पहंुच रही हैं। नये साल के दूसरे दिन ही लखनऊ के ऐतिहासिक रमाबाई मैदान में भाजपा ने महापरिवर्तन रैली का आयोजन किया जिसमें भाजपा के सामने सबसे बड़ी समस्या बसपा नेत्री मायावती की रैलियों में आने वाली भीड़ से भी कहीं अधिक भीड़ एकत्र करना एक चुनौती थी जिसे लगता है भाजपा ने पार पा लिया है। 2 जनवरी को भाजपा की महापरिर्वतन रैली ने अब तक के सभी रिकार्ड ध्वस्त कर दिये हैं। भीड़ को देखकर पीएम मोदी भी खूब उत्साहित हुए व जोश में दिखे तथा उनके चेहरे का तनाव कुछ कम होता हुआ दिखा लेकिन अभी चिंता बरकरार हंै। भाजपा की महापरिवर्तन रैली को पीएम मोदी सहित भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ,गृहमंत्री राजनाथ सिंह, कंेद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती व प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने भी संबोधित किया। रमाबाई मैदान एक प्रकार से मोदीमय हो गया था रैली स्थल पर केवल मोदी मोदी के नारे ही गूंज रहे थे । माना जा रहा है कि जितने लोग रैली स्थल के अंदर तो उसके आधे बाहर खड़े थे। भाजपा की रैली मंे पहुचें लोग मोदी की झलक को पाने के लिए बेताब हो रहे थे। रैली में पीएम मोदी के सम्मान में मोबाइल की लाइटें भी जल उठीं।
भाजपा की लखनऊ में आयोजित महापरिवर्तन रैली से यह साफ संकेत मिल रहा है कि अब भाजपा मोदी के सहारे ही अपनी चुनावी वैतरणी को पार करने जा रही है। यह भी साफ हो गया है कि आगे की रैलियों में भी आगे की मोदी की रैलियों में भ्रष्टाचार , कालाधन और कानून व्यवस्था के मामले में सपा- बसपा कांग्रेस को एक ही तराजू में तौलेंगे वह यह भी कहने मेें कोई कसर नहीं छोडे़ंगे कि यूपी के विकास के लिए केंद्र की तरह यूपी में भी भाजपा सरकार होनी चाहिये। दूसरे दल अपने राजनैतिक हितों की खातिर केंद्र की मदद का उपयोग नहीं करते हैं। खबर है कि लखनऊ महापरिवर्तन रैली में भीड़ से उत्साहित होकर भाजपा अब पीएम मोदी की पूरे प्रदेश भर में 20 जनरसभाएं लगाने की योजना बना रही है। भाजपा यह चाहती है कि लखनऊ की रैली के बाद प्रदेश में जो उत्साह बनता दिखलायी पड़ रहा है वह उसी प्रकार से बना रहे। साथ ही यह भी संकेत मिला है गृहमंत्री राजनाथ सिंह ही पीएम मोदी के बाद सबसे शक्तिशाली चेहरा व प्रचारक बनकर उभर रहे हैं।एक ओर जहां रमाबाई मैदान भीड़ के मामले में रिकार्ड बना रहा था वहीं दूसरी ओर विरोधी दल इस रैली में आये लोंगो का अपमान कर हे थे व मजाक बना रहे थे। रमाबाई मैदान में आयी भीड़ को देखकर प्रतीत हो रहा था कि जैसे कि केसरिया जनसुद्र झिलमिला रहा हो।
पीएम मोदी ने हर भाषण की तरह अपने भाषण से जनमानस के हर पहलू को छूने का प्रयास किया और विरोधी दलों पर करारा हमला बोला। पीएम मोदी ने अपने संबोधन के पहले ही चरण मंे कहा कि, ”कई वर्षों से राजनीति में हूं बीजेपी में राष्ट्रीय स्तर पर संगठन में कार्य करने का मौका मिला । मुख्यमंत्री के रूप में भी सेवा करने का मौका मिला। ढाई साल से प्रधानसेवक के तौर पर आपकी सेवा करने का मौका मिला लेकिन कभी इतनी बड़ी रैली करने का सौभाग्य नहीं मिला।” पीएम मोदी की यह साल 2017 में और नोटबंदी के 50 दिन बाद भी वह किसी रैली को संबोधित कर रहे थे। मोदी ने अपने संबोधन में विकास का मुददा पूरे जोर शोर से उठाते हुए एक बार फिर सबका साथ सबका विकास के नारे पर बल दिया है। राजनैतिक विश्लेषक व रैलियों में आ रही भीड़ को आधार मानकर अपना सर्वे पेश कर देने वाले राजनैतिक पंडित भी रमाबाई मैदान में आयी भीड़ के उत्साह एवं ऊर्जा को देखकर एकबारगी अचम्भित अवश्य हैं। यही कारण रहा कि पीएम मोदी ने सभी को शुक्रिया भी अदा किया। रैली में आयी भीड़ को देखकर लग रहा था कि जनमानस पर भीषण सर्दी के सितम भी कोई असर नहीं पड़ रहा था। रमाबाई मैदान की भीड़ ने विरोधी दलों को सोचने पर मजबर अवश्य कर दिया है। रैली पर बसपा सुप्रीमो मायावती और सपाई नेताओं ने जमकर प्रहार भी किये हैं। मायावती ने हर बार की तरह पीएम मोदी के भाषण को निराशाजनक व रैली को फ्लाप बताया ।
पीएम मोदी ने अपने भाषण में पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी को तो याद किया ही साथ ही साथ कल्याण सिंह व राजनाथ सिंह की अगुवाई में बनी सरकारों व उनके कामकाज को भी याद किया। अटल जी को याद तो किया गया पर अटल जी का चित्र नहीं सजाया गया। वहीे दूसरी ओर पीएम ने अपने भाषण में अटल जी के काम का नाम लिया और कहा कि वे जहां कही भी टी वी पर आने वाली भीड़ को देख रहे होंगे वह भी हम लोगों को आशीर्वाद ही दे रहे होंगे। यही बात उन्होनें पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह के लिए भी कहीं। पीएम मोदी ने अपने भाषण में पिता ,पुत्र ओरपरिवार पर भी खूब हमले किये।
वहीं विकास पर बल देते हुए पीएम ने कहाकि, ”कहा जा रहा है कि क्या यूपी में बीजेपी का वनवास खत्म होगा कि नहीं। मुददा बीजेपी के वनवास खत्म करने का नहीं अपितु राज्य में विकास के वनवास होने का है।“ उन्होनें कहा कि हिंदुस्तान का भाग्य बदलने के लिये पहली शर्त है कि उत्तर प्रदेश का भाग्य बदलना पड़ेगा। भारत को आगे बढ़ना है तो यूपी का आगे बढ़ना जरूरी है। यही कारण है कि पीएम मोदी ने उपस्थित जन समूह से वे एक बार अपने- पराये, जात-पाात से ऊपर उठकर सिर्फ उप्र के विकास के लिए वोट करें। पीएम ने सत्ताधारी पार्टी को निशाना बनाकर कहाकि वह जानते हैं कि यूपी में सरकारें कैसे चलती हैं। उन्हांेने नोटबंदी के बाद एसपी और बीएसपी की ओर से हो रहे विरोध पर निशाना साधते हुए कहाकि हम भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने की बात करते हैं आपने कभी एसपी -बीएसपी को एक साथ देेखा है लेकिन एक मुददे पर दोंनो इकटठे हो गये दोनों मिलकर कह रहे हैं कि मोदी को बदलो, मोदी को हटाओ। निर्णय आपको करना है।
अपनी रैली में उन्होनें भीम ऐप का उल्ल्ेाख करते हुए कहा कि ज्यादा से ज्यादा लोग भीम ऐप डाउनलोड करंे और इससे बड़ी श्रद्धांजलि बाबा साहेब अंबेडकर को नहीं दी जा सकती। अपने संबोधन में पीएम मोदी ने एस पी- बीएसपी और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा।
पीएम मोदी के संबेधन के पहले भाजपा के राष्टःीय अध्यक्ष अमित शाह ने संबोधित करतेे हुए कहा कि अगर यूपी मंे बीजेपी की सरकार बनती है तो यूप से सभी गंुडे भाग जायेंगे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने स पर करारा हमला बोला और कहाकि चाचा- भतीजा इस प्रदेश का विकास नहीं कर सकते और बुआ तो कतई नहीं कर सकती। इन दोनों दलों ने 14 वर्षों में प्रदेश को बहुत पीछे छोड़ दिया है। देश के 10 प्रदेशों में भाजपा की सरकारें है। इन प्रदेशों की तुलना करने पर यूपी की दुर्दशा साफ दिखती है उन्होनें यूपी सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप भी लगाये। रैली में  भाजपा कार्यकर्ताओं का उत्साह चरम पर था। अब यह देखना है कि क्या रमाबाई मैदान में आयी यह केसरिया भीड़ वोटबैंक में तब्दील हो सकेगी? रैली को देखकर तो लग रहा है कि यदि यह वोटबैंक में बदल गयी तो यह 2017 के विधानसभा चुनावों में 2014 की तर्ज पर भाजपा की सुनामी भी ला सकती है। लेकिन अभी भी भाजपा के सामने कई समस्यायें व चुनौतियां सामने हैं। जिनका भाजपा नेतृत्व को एहसास भी है। चुनाव की तारीखें घोषित हो जाने के बाद टी वी सर्वेक्षणों में भी भाजपा की सरकार बनती दिखायी जा रही है।आज तक टी वी चैनल के सर्वे में भजपा को 206 से 216 सीटों पर बढ़त दिखायी जारही है उसके बाद भाजपा में उत्साह का कुछ संचार हुआ है लेकिन अभी भी सर्वे के एक हिस्से में प्रदेश की जनता भाजपा से एक अच्छे नेता की मांग कर रही है जो अकेले ही सब पर भारी पड़ जाये।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz