लेखक परिचय

संदीप उपाध्याय

संदीप उपाध्याय

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under राजनीति.


संदीप उपाध्याय

आरक्षण नाम सुनते ही, एक भयानक अनुभूति जैसा लगता है, हो सकता है कि मेरे साथ इस आरक्षण के कारण कई मौके चले गए है इसलिए ऐसा लगता है, हालाकि ये सिर्फ एक आदमी की कहानी नहीं हो सकती, जब आप किसी को उठाते है तो साथ में किसी को नीचे दबा भी देते है क्योकि बिना किसी को दबाये कुछ उठाना संभव नहीं है, या यु कहे तो गलत नहीं होगा की आरक्षण रूपी सुरसा अपने मुह में होनहार लोगो के भविष्य को निगल रही है , लेकिन सत्ता की राजनीती करने वाले, सत्ता लोलुप नेता अपनी ओछी राजनीतिक हेतु को साधने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता है, एसे लगता है की हर पार्टियों में होड़ सी लग गयी है की कौन कितना आरक्षण लोगो को दे सकता है,

कुछ दशक अगर हम पीछे जाये, जब आजादी मिली तब कहा गया था की आरक्षण पिछड़े लोगो को आगे बढ़ाने के लिए जरुरी है, कुछ हद तक सही भी था, जिसकी सीमा ५० वर्षों की थी, जो २००० इसवी में ख़तम भी हो गयी, लेकिन अगड़ो की पार्टी कही जाने वाली मौजूदा बीजेपी सरकार ने कहा था ये जरी रहेगा, शायद उनको अपनी पार्टी को सरकार को चलाना था इसलिए ऐसा निर्णय लेना पड़ा.

सवाल आरक्षण पर उठाना लाजमी है, क्योकि कितने प्रतिशत ऐसे लोग है जो पिछड़ी जाति के है और गरीब है उनको आरक्षण का फायदा मिलता है, जिसका जबाब है बहुत कम, क्योकि इसका फायदा वो उठाते है जो पिछड़ी जाति से तो आते है लेकिन उनकी आर्थिक और सामाजिक स्थिति ख़राब नहीं है, और सही जरुरत मंदों तक बहुत कम ही इसका फायदा मिलता है,

सारी पार्टिया ये सोचती है की अगर आरक्षण के विरूद्ध हमने कुछ कह दिया तो हमारी सरकार गिर जाएगी या पार्टी के भविष्य के लिए ठीक नहीं रहेगा, शायद सच भी है, क्यों की अब पोलिटिक्स समाज सेवा की लिए नहीं रह कर, अब एक अच्छा करीअर बन गया है जिसको चमकाने के लिए ये, होनहार नेता कुछ भी कर सकते है,

एक वाकया याद आया जिसमे एक पत्रकार मित्र ने आरक्षण के हिमायती एक नेता से पूछा था की, आपको एसा नहीं लगता की एक अच्छा अंक पाने वाला डॉक्टर या इंजिनियर अच्छा रिजल्ट दे सकता है बनिश्पत एक कम अंक पाने वाले डॉक्टर या इंजिनियर से, इसके जबाब में होनहार नेता ने कहा की, ये हमारे देश के हित में होगा. ये बात देश के हित में हो न हो लेकिन पार्टी के हित में तो जरुर था .

सही मायनों में आरक्षण के लिए सिर्फ और सिर्फ एक ही कटेगरी है और वो है गरीबी, किसी भी जाति का व्यक्ति क्यों न हो, अगर उसकी आर्थिक स्टीथी अच्छी नहीं है तो उसे आरक्षण मिलना चाहिए, तभी सही मायनों में जरुरतमंदों को लगेगा की हमारे साथ सरकार छल नहीं कर रही है, नहीं तो आज की अगड़ी जाति के लोग सरकार के हर योजनाओ में अपने आप को छला हुआ महसूस कर रहे है, जो भारत के भविष्य के लिए ठीक नहीं है, कभी कभी ऐसा लगता है की सौतेला जैसा व्यवहार सरकार उनके साथ कर रही है,

अभी कुछ दिन पहले सुश्री मायावती को नयी सनक चढ़ी है ब्राह्मणों को आरक्षण देने की, शायद उन्होंने ये सोच लिया है की UP में २२% के आस पास पिछड़ी जातिया है, और अगर ब्राह्मणों का सहयोग मिल गया तो मुझे कोई नहीं हरा पायेगा, क्योंकी चुनावी समीकरण है की ज्यादे से ज्यादे ५०-६० % वोटिंग होती है जिसमे किसी भी पार्टी को अगर ३०% अगर मिल जाये तो वो जीत जायेगा, लेकिन ये भी सच है की ये जनता है सब जानती है.

सारी पार्टी एक बिज़नस प्रोमोटर की तरह अपने- अपने पार्टी का ऑफर लेकर जनता के सामने मैदान में आ गयी है.

हालाकि इसमें आरक्षण का पत्ता हर पार्टियों ने तुरुप के रूप में इस्तेमाल किया है, इस बार कितना कारगर होगा अभी कहना मुश्कल है, लेकिन एक बात तो तय है की अगर इसी तरह जाति – पाति और बटवारे की राजनीती होती रही तो, इक्कीसवी सदी में इतनी ओछी मानसिकता से इस देश का कितना विकास होगा ये शंदेह का विषय है.

पार्टियो को चाहिए की सिर्फ देश के विकास की बात करे, इस देश से गरीबी और भुखमरी की समस्या, बेरोजगारी की समस्या से निजाद दिलाने के लिए, शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए, भ्रष्टाचार को ख़तम करने के लिए कोई कारगर मुद्दा अपनाये, तभी सही मायनों में हर भारतीय को लगेगा की वो छला नहीं जा रहा है .

Leave a Reply

7 Comments on "आरक्षण"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Rajesh Bheel
Guest
डॉक्टर मीणा, आप खुद उस मीणा समुदाय से सम्बंधित हैं जिन्होंने राजस्थान में कई रियासतों पे राज किया था. फिर आप कैसे अनुसूचित जाती में घुसे हुए हैं?? राजस्थान के सवाई माधोपुर, अजमेर, अलवर, आदि जिलो की मीणा जाती शुरुआत से समृद्ध रही है लेकिन उसने खुद को आदिवासी बताकर दक्षिण राजस्थान के मेवाड़-वागड़ क्षेत्र के असली आदिवासियों का हक़ मारकर आरक्षण की मलाई खा ली है. और दक्षिण राजस्थान के आदिवासी आज भी भूखे मर रहे हैं. अगर आप में साहस और ईमानदारी हो तो आनाक्दा पेश करो की राजस्थान के कितने मीणे IAS / RAS है और उसकी… Read more »
डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
Guest
श्री संदीप उपाध्याय जी, आपने सज्जनता पूर्वक टिप्पणी करके एक सज्जन व्यक्ति और लेखक होने का प्रमाण दिया है, जिसके लिए आपका आभार! मैं आपकी और आपकी विचारधारा के समर्थक बंधुओं की जानकारी के लिए निम्न आंकड़े प्रस्तुत कर रहा हूँ! हो सकता है की इनको पढ़ने के बाद आपको सच्चाई का दूसरा पक्ष दिखाई दे सके! आरक्षण मामले में सरकारी सेवाओं और शिक्षण संस्थानों में प्रवेश में आरक्षण को लेकर ही आज अधिकतर सवर्ण लोगों में अधिक रोष है, राजनैतिक आरक्षण आम सवर्ण व्यक्ति के लिए कभी बड़े विवाद का विषय नहीं रहा! जबकि रोष व्यक्त करने वालों को… Read more »
sandeep
Guest
धन्यवाद मीना जी! जानकारी के लिए, अपने जो अकड़े पेश किये वो मुझे काफी अच्छा लगा, मेरा सवाल ये है की कोई भी सरकारी पद के लिए जब कोई आवेदन मंगाया जाता है उसमे सबसे ज्यादा सीटे, अरक्षित होती है अगर उसका पीड़ा इन जातियों को नहीं मिलता तो उन सिटो पर कौन बैठा है, और मई दुनिया की बात नहीं जनता मेरे साथ कई बार आरक्षण के कारन, मौके नहीं मिले है, इसको मै चाहू तो उंगलियों पर गिना सकता हूँ , मुझे पूछना ये है की जब कोई इन्त्रंस एक्साम होता है तो, इनको कम मार्क्स में अद्मिस्सिओन… Read more »
ashoksingh
Guest

मेरा मन्ना है की केवल गरीब लोगो को रेसर्वतिओं
देना chahey

डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
Guest
“आरक्षण नाम सुनते ही, एक भयानक अनुभूति जैसा लगता है, हो सकता है कि मेरे साथ इस आरक्षण के कारण कई मौके चले गए है इसलिए ऐसा लगता है, हालाकि ये सिर्फ एक आदमी की कहानी नहीं हो सकती, जब आप किसी को उठाते है तो साथ में किसी को नीचे दबा भी देते है क्योकि बिना किसी को दबाये कुछ उठाना संभव नहीं है,………….” लेखक महोदय आपके लेख की उक्त पहली पंक्ति ही इस बात का प्रमाण है की आप मनुवाद की बीमारी से ग्रस्त हैं! जो अब मानसिक बीमारी का रूप ले चुकी है! इसके कर्ण अनेक लोगों… Read more »
sandeep
Guest

अप शायद मानसिक बीमारी के डॉक्टर है, सुझाव के लिए धन्यवाद् ! मई कुछ कल्पना करके नहीं लिखा है, यह एक कटु शत्य है, हा ये बात और है की आप चाहते है की ये अरखन तब तक रहे, जब तक सारे सामान्य कोतेगोरी में आने वाले लोग, रास्त्ये पर न आ जाये, बहुत जल्द ही ये भी हो जायेगा, क्यों की इसकी सुरुआत हो गयी है,

आरक्षण का मतलब ये तो कत्तई नहीं हो न चाहिए की एक का हक्क छिनकर दुसरे को दिया जाय, खैर आपको मेरी पते पसंद नहीं ई उसके लिए, मुझे अफशोस है……….

sandeep
Guest

टाइपिंग की कुछ खामिया है आप समझ सकते है………

wpDiscuz