लेखक परिचय

अमित शर्मा (CA)

अमित शर्मा (CA)

पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट और कंपनी सेक्रेटरी। वर्तमान में एक जर्मन एमएनसी में कार्यरत। व्यंग लिखने का शौक.....

Posted On by &filed under व्यंग्य, साहित्‍य.


 

reservationअपने देश में सामान्य वर्ग का होना उतनी ही सामान्य बात हैं जितनी की कांग्रेस सरकारों में भ्रष्टाचार का होना। लेकिन अगर सामान्यता में योग्यता का समावेश ना हो तो फिर ऐसी “अनारक्षित-असामान्यता” का देश में उतना ही मूल्य रह जाता हैं जैसे किसी मार्गदर्शक मंडल के नेता का किसी पार्टी में। सामान्य श्रेणी के लोगो की कास्ट ही उनके सब कष्टो का सबब हैं और इन कष्टो को दूर करने लिए हर बार वे अलग अलग पार्टी को अपना वोट “कास्ट” करते हैं लेकिन कष्ट, नष्ट होने के बजाय और पुष्ट हो जाते हैं और चुनाव जितने वाली “पार्टी” चुनाव जितने के बाद अगले 5 साल तक “पार्टी” करती हैं। सामान्य श्रेणी के लोग जन्म से लेकर शिक्षा तक और शिक्षा से लेकर नौकरी तक कोल्हू के बैल की तरह पचते हैं लेकिन जलीकट्टु पर्व को बैलो के प्रति क्रूर बताने वाली अदालतो ने आज तक इन “मानवीय बैलो” के प्रति होने वाली क्रूरता का संज्ञान नहीं लिया।

जब भी सामान्य श्रेणी का विद्यार्थी किसी परीक्षा या किसी स्कूल -कॉलेज में एडमिशन के फॉर्म में जाति के कालम में जनरल सलेक्ट करता हैं तो पीढ़ी-दर-पीढ़ी सिस्टम के सामने उसका ये सरेंडर देखकर सारे कांग्रेसी भी गांधी परिवार के सामने अपने वंशानुगत सरेंडर को और मजबूत करने के लिए अपने “कटी” में “दासता की वटी” लेकर और भी ज़्यादा कटिबद्ध होते हैं। जनरल वालो से किसी फॉर्म या परीक्षा शुल्क के रूप में ज़्यादा पैसे इसीलिए लिए जाते हैं ताकि आगे चलकर उन्हें पता चल जाये की जनरल में जन्म लेकर उनके “लेने के देने” पड़ गए हैं और शुरू से उनको ज़्यादा की आदत हो जाये , जैसे ज़्यादा पढाई ,ज़्यादा मेहनत , ज़्यादा इंतज़ार और इस ज़्यादा से उनको अजीर्ण ना हो इसीलिए फिर थोड़ी सफलता भी मिल जाती (दे दी) हैं.

सामान्य वर्ग के स्टूडेंट्स और आरक्षित वर्ग के स्टूडेंट्स की योग्यता और उनके द्वारा प्राप्त अंको में भले ही ज़मीन और आसमान का अंतर हो लेकिन सविंधान बनाने वालो ने इस “अंतर” को “अंतरा माली” की फिल्मो की तरह मूल्यहीन माना हैं। आरक्षण के पक्ष में दलील देने वाले दलालो का कहना हैं की मेडिकल ,इंजीनियरिंग और अन्य सरकारी नौकरियों में प्रवेश के लिए सामान्य वर्ग भले ही जी-तोड़ मेहनत करता हैं लेकिन वह आरक्षित वर्ग द्वारा आरक्षण पाने के लिए की गई “सार्वजनिक सम्पत्ति-तोड़” मेहनत के सामने कुछ भी नहीं हैं.

वैसे ये (कु)तर्क इसीलिए भी ठीक लगता हैं  क्योंकि (उदारहण के तौर पर) सामान्य वर्ग का व्यक्ति ट्रैन की पटरियों का उपयोग उनको उखाड़कर आरक्षण पाने के लिए नहीं कर सकता वो तो बस प्रात: काल की वेला में ,वेल्ला हो कर, हाथ में लौटा के लेकर हल्का होने में उनका उपयोग करता हैं,या फिर पटरियों पर चलने वाली ट्रैन में अपने “डब्बे’ में बैठकर अपनी “डब्बे’ जैसी किस्मत को कोसते हुए केवल “प्रभु” को ट्वीट कर सकता हैं और अगर नीचे वाले और ऊपर वाले दोनों प्रभु ने ना सुनी तो पटरियों पर लेट कर, लेट चलने वाली “भारतीय ट्रैन” से अपनी ईहलीला, संसद-सत्र की तरह बिना किसी उदेश्य प्राप्ति के समाप्त कर लेता हैं।

आजकल न्यूज़ चैनल् डिबेट्स में कई दलित चिंतक और विचारक दिखाई पड़ते हैं लेकिंग सामान्य वर्ग का कोई चिंतक/विचारक नज़र नहीं आता क्योंकि उसे अपनी चिंता और विचार खुद ही करना पड़ता हैं. सामान्य वर्ग के व्यक्ति को अपने जीवन में हमेशा “स्किल” पर निर्भर रहना पड़ता है क्योंकि उसे पता होता हैं की अगर स्किल ना हुई तो इस देश का सिस्टम उसे “किल” कर देगा। इस देश में हाथी से लेकर साईकिल पर चलने वाले सभी दल इस “किल का दिल से” समर्थन करते है.

आरक्षित वर्ग के व्यक्ति की दुर्भाग्यपूर्ण हत्या /आत्महत्या को अपने साथ मक्कारी का आटा और नमकहरामी का नमक लेकर घूमने वाले सारे दल राजनैतिक रोटिया सेंकने का अवसर मानते हैं और रोटी सकते समय हाथ जलने पर बर्नोल के बदले अपनी अभिव्यक्ति की स्वंत्रता का उपयोग करते हैं। राजनीती में कूदने के इच्छुक लोग इसे कालेज का प्लेसमेंट प्रोग्राम मान कर मेहनत करते हैं। सामान्य वर्ग की हत्या /आत्महत्या में ग्लैमर का उतना रस नहीं होता इसीलिए इसे ग्लैमरस नहीं माना जाता हैं और इसे ये मानकर खारिज कर दिया जाता हैं की इस हत्या /आत्महत्या के पीछे ज़रूर साजिद खान की हमशक्ल या फिर फरहा खान की हैप्पी न्यू ईयर का हाथ हैं।

मेरा मानना हैं की इस देश में ‘प्रतिभा’ तो बहुत है लेकिन सब अलग अलग सरनेम वाली, इसीलिए जिन प्रतिभाओ को जाति प्रणाम -पत्र मिल जाता हैं, वो अपने “अवसर” के साथ टू-व्हीलर पर डबल – सीट निकल पड़ती हैं और जिनको नहीं मिल पाता उनका अवसर से ब्रेकअप हो जाता हैं और फिर वो सारी ज़िन्दगी, गूगल पर सिंगल होने के फायदे सर्च करती रहती है।

अमित शर्मा

पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट और कंपनी सेक्रेटरी। वर्तमान में एक जर्मन एमएनसी में कार्यरत। व्यंग लिखने का शौक

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz