लेखक परिचय

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

प्रवक्ता.कॉम ब्यूरो

Posted On by &filed under महत्वपूर्ण लेख, विविधा.


shyamji in Tuglak thanaसंजीव कुमार सिन्‍हा (फेसबुक वॉल से) : कल शाम में 6 बजे श्री श्‍याम रुद्र पाठक को दिल्‍ली पुलिस ने 105/151 धारा लगाकर जबरन गिरफ्तार कर लिया। यह दुर्भाग्‍यपूर्ण और निंदनीय है। श्री पाठक 225 दिन से लगातार यूपीए की चेयरपर्सन श्रीमती सोनिया गांधी के निवास के आगे सत्‍याग्रह कर रहे थे। उनकी मांग है कि सर्वोच्‍च न्‍यायालय एवं देश के 17 उच्‍च न्‍यायालयों में अंग्रेजी की अनिवार्यता खत्‍म हो और भारतीय भाषा में भी बहस हो। श्री श्‍याम रुद्र पाठक अभी तुगलक थाना में गिरफ्तार हैं। पुलिस ने उनका एटीएम, मोबाइल सहित सारा सामान छीन लिया है। 

मित्रों, भारत को बचाइए। यहां की संस्‍कार, संस्‍कृति, भाषा आदि सब पर चौतरफा हमले हो रहे हैं। हम बातचीत में, लेखों में इस पतनशीलता और पराधीनता पर खूब रोना रोते हैं। आज यदि कोई स्‍वभाषा और स्‍वदेश के लिए अपना जीवन दांव पर लगाकर संघर्षरत है तो हमें कम से कम उनके साथ खड़े तो होना चाहिए, उनकी आवाज को बुलंद तो करना चाहिए। http://www.facebook.com/photo.php?fbid=10201039347319391&set=a.1103449739984.2018130.1038954127&type=1&theater

पंकज कुमार झा बिलकुल.

Zakir Hussein लानत …लानत …लानत है है एसे अंग्रेजियत के ग़ुलामों पर !

Anup Shukla सर्वोच्‍च न्‍यायालय एवं देश के 17 उच्‍च न्‍यायालयों में अंग्रेजी की अनिवार्यता खत्‍म करने की मांग जायज है। इस मांग के लिये अगर किसी को गिरफ़्तार किया जाता है तो यह अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण है।

Abhishek Purohit Kabhi kabhi lagta he ham svtantr bharat me nahi gulam desh me rahate he.

अरुण अरोरा सर्वोच्‍च न्‍यायालय एवं देश के 17 उच्‍च न्‍यायालयों में अंग्रेजी की अनिवार्यता खत्‍म करने की मांग जायज है। इस मांग के लिये अगर किसी को गिरफ़्तार किया जाता है तो यह अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण है।

Rajeev Ranjan Prasad शर्मनाक है। इस कार्यवाई की तीक्ष्ण भर्त्सना करते हैं। भारते में शासन की भाषा जब तक अंग्रेजी रहेगी, हम अपनी मानसिक गुलामी से बाहर आ ही नहीं सकते। अंग्रेजी हमारे अदालतों की भाषा इसी लिये है चूंकि आम आदमी और न्याय के बीच जान बूझ कर पैदा की गयी दूरी कायम रहे।

Subodh Kumar Tanti Lalat hai gandhi family par.

शिवानन्द द्विवेदी सहर ओह ! यह कैसा लोकतंत्र

Ranjit Kumar Sinha सोनिया जी को हिन्दी भाषा से प्यार है ।वे इनका धैर्य देखना चाहती है

Vibhay Kumar Jha oh

पंकज कुमार झा उफ़..यह इटालियन नष्ट कर देगी हम सबको.

Pankaj Mishra sharmnaak

Ashutosh Kumar Singh sharmnaak

Naresh Arora भैंस के आगे वीणा बजाने से क्या लाभ? देश में भारतीय भाषाओँ के अपमान को रोकने के लिए व्यापक जागरण अभियान की आवश्यकता है. श्री श्याम रूद्र को गिरफ्तार किया जाना शर्मनाक है. नरेश भारतीय

Devesh Rajeev Tripathi निंदनीय

Ashutosh Kumar Singh जितनी निंदा की जाए कम है

Chander Kumar Soni CM 225 din.??

Munna Kumar Sharamnak………. Nindniya hai yah.

Raj Kumar Bhatia Yeh kab hua yeh bhi bataayie

संजीव सिन्हा Raj Kumar Bhatia कल शाम में 5 बजे श्‍याम रुद्र पाठक गिरफ्तार हुए।

Chauhan Ravi very shame !!

Girish Pankaj ye kaisa loktantr hai?

Zafar Khan bhasha ka sammaan se sonia gandhi ka kya matlab …hum khud aaj ke samay mein apne bacchon ko angrezi school mein padane ko apna garv samjhte hain…

Leave a Reply

12 Comments on "न्‍यायालयों में भारतीय भाषाओं में कार्यवाही की मांग को ले सत्‍याग्रह कर रहे पाठक गिरफ्तार"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Chander Shekhar Tyagi
Guest
Chander Shekhar Tyagi

जिस देश में अपनी भाषा और संस्कृति का सभी कार्यों में व्यवहार नहीं होता वह देश पतन की ओर जाता है।

RTyagi
Guest

यह अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है…..ऐसा करने वालों को सबक सिखाना चाहिये..

बीनू भटनागर
Guest
बीनू भटनागर

निंदनीय

विश्व मोहन् तिवारी
Guest
विश्व मोहन् तिवारी

हम भी‌चाहते हैं कि न्यायालय मे भारतीय भाषाओं का उपयोग हो ताकि जनता को न्याय प्रक्रिया समझ में तो आए ।
यह तो जनतंत्र की मूल माँग है।।

Bhartendu Mishra
Guest

बहुत दुखद सूचना है। अंग्रेजो की इस गुलाम मानसिकता वाली संस्कृति से इस देश को कब मुक्ति मिलेगी ईश्वर जाने..यह हमारे देश का दुर्भाग्य है कि हिन्दी या अन्य भाषाओ को जानने वाले को जबदस्ती अंग्रेजी मे न्याय दिया जाता है।.

wpDiscuz