लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under विधि-कानून.


श्याम रुद्र जी की गिरफ्तारी पर सभी भारतीयों/राष्ट्रवादियों से अनुरोध है, समय निकाल कर अपनी-२ प्रतिक्रिया और विचार यहाँ रखें और सरकार के इस गैरजिम्मेदार कदम की खबर को अपने ट्विटर, फेसबुक, गूगल प्लस और व्हाट्सऐप पर सबके साथ साझा करें। २४ जुलाई २०१३ को पटियाला न्यायालय में उनकी पेशी है दिल्ली के आसपास वाले लोग उस दिन न्यायालय में सुबह १० बजे एकत्र हों. अधिक जानकारी के लिए संयोजक श्रीमती गीता मिश्रा ‘रतन से संपर्क करें : ९८९१५-५७०७७ in Eng: 98915-57077

shyam rudra pathak

श्याम रुद्र जैसे योद्धा के लिए हिंदी मीडिया ने भी कभी एक पट्टी की खबर भी नहीं चलाई

निरंकुश सरकार अथवा कांग्रेस पार्टी ने श्यामरुद्र पाठक जी की बात पर ध्यान देना तो दूर उन्हें कभी अपनी बात कहने के लिए मिलने भी नहीं बुलाया. वे हर दिन सोनिया गाँधी के नाम चिट्ठी लिखकर उनके प्रहरी को देते रहे पर एक का भी उत्तर नहीं दिया गया. वे साढ़े सात महीने से धरना दे रहे थे. हर रात उन्होंने पुलिस थाने में गुजारी. 

देश में भाषाओँ को लेकर अनेक संगठन हैं, अनेक क्षेत्रीय भाषाओं के समाचार चैनल और अख़बार हैं पर किसी ने भी इस मुद्दे पर पाठक जी की आवाज़ को आगे पहुँचाने का काम नहीं किया. 

इन साढ़े सात महीनों में उनका स्वास्थ्य बहुत गिर चुका है वे हर दिन थाने से लौटकर कांग्रेस मुख्यालय के सामने धरना दे रहे थे, बाहर का भोजन खरीदकर खा रहे थे, उन्होंने सर्दी के तीन महीने फिर गर्मी के चार महीने फिर वर्षा को सहा- झेला, किसके लिए ? 

दुनिया भर में छोटे-२ देश अपनी भाषाओं को लेकर बड़े संवेदनशील हैं पर भारत के नागरिकों के रक्त में तो जैसे अंग्रेजी प्रवाहित हो रही है, कहीं कोई हल चल नहीं कहीं कोई रोष नहीं. सब अंग्रेजी देवी के चरणों में नत-मस्तक हैं. क्या हम अपनी हिंदी, तमिल, मराठी, कन्नड़, गुजराती, अथवा बंगाली के लिए इन सरकारों के सामने अपनी आवाज़ नहीं उठाएँगे? 

देश की हर भाषा पर संकट है, भाषाई विद्यालय बंद हो रहे हैं, उच्च शिक्षा में देशी भाषाओं का कोई अस्तित्व नहीं. क्या भारत सचमुच ‘इण्डिया’ बन गया है?

क्या मैकाले का सपना १००% सच हो चुका है? क्या हम सब दिखने में भारतीय पर अंग्रेज बन चुके हैं?

Leave a Reply

7 Comments on "भारतीय भाषा सेनानी श्‍याम रुद्र पाठक का साथ दें"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
Dr. Dhanakar Thakur
Guest
श्यामरूद्र मेरे अनुज का सहपाठी है और मुझे बहुत प्रिय है – उसमे एक जिद्द है अच्छी बात करने की इसलिए मुझे उसपर गर्व भी है -जो कई बार मैं नहीं कर सका- खासकर अनुजवधू के लिए मेरा सन्देश है की वह निराश न हो..मुझे उनसे मिले बहुत साल हो गए- मेरे स्वर्गीय पिताजी की भी थोड़ी भूमिका उसके नेतरहाट विद्यालय में प्रवेश के लिए संस्कृतज्ञ प्राचार्य त्रिपाठीजी को किसी प्रमाणपत्र समय देने के लिए सहमत करने में था . मैं राजनीती में नहीं हूँ और मेरे राजनीतिज्ञ मित्र मेरी बात सुनते भी नहीं हैं पर जो बीड़ा उसने उठाया… Read more »
गंगानन्द झा
Guest
गंगानन्द झा

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन का एक अवलोकन है- हम भारतीयों जैसी निष्ठाहीन जाति कम मिलेगी जिसने इतना अधिक प्रवचन दिया हो और उतना ही कम क्रियान्वयन.. हिन्दी के प्रति हमारी प्रतिबद्धता उसका दृष्टान्त है।.

vijender
Guest

श्याम रूद्र पाठक जी की गिरफ़्तारी की जितनी भी निंदा की जाए कम हॆ/सभी राष्ट भाषाई प्रमियो से अनुरोध हॆ वह राजनेतिक दलों से समर्थन मांगे जो दल समर्थन करे उसको चुनाबो में समर्थन दे /

डॉ. मधुसूदन
Guest

सही कहा।
मैं अंग्रेजी का विरोध करता हूं।
और चुनाव के लिए आर्थिक, या अन्य सहायता, उन लोगों को नहीं दूंगा, जो संसद में अंग्रेजी के अतिरिक्त, कोई दूसरी भाषा नहीं बोलते।

Anil Gupta
Guest
नीरज की चार पंक्तियाँ याद आ रही हैं.:- मुफलिसी, भूख, गरीबी से दबे देश का दुःख,डर है कल मुझको कहीं खुद से न बागी करदे, जुल्म की छांह में दम तोडती साँसों का लहू,मेरी रग रग में कहीं आग अंगारे भरदे, क्या यही स्वप्न था देश की आजादी का,रावी तट पे क्या कसम हमने यही खायी थी, क्या इसी बात पे तडपी थी भगत सिंह की लाश, जेल की मिटटी गरम खून से नहलाई थी? न तो मीडिया, न ही संवाद एजेंसियां और न ही राजनीतिक दल कोई भी भाषा के मामले में बोलना नहीं चाहते हैं.कल राजनाथ सिंह जी… Read more »
शिवेंद्र मोहन सिंह
Guest
शिवेंद्र मोहन सिंह

भारतीय भाषा सेनानी श्‍याम रुद्र पाठक का मैं समर्थन करता हूँ. और कोशिश करूंगा की ज्यादा से ज्यादा जन तक उनकी बात को पहुचाऊं.

wpDiscuz