लेखक परिचय

कनिष्क कश्यप

कनिष्क कश्यप

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under विविधा.


उपर दूर आसमां तन्हाbaby_couple
सामने गुजरगाह तन्हां
जिस्म तन्हा, जां तन्हा
आती हुई सबा तन्हा
पहले भी हम थे तन्हा
आज भी अकेले हैं

सुना हर यूं लम्हा क्यूं?
मेरा मुकद्दर तन्हा क्यूं?
खुद को पल-पल ढूंढ रहा
मेरे चारो तरफ़ मेले हैं

और जीने की चाह कहां?
बुझने की परवाह कहां?
ज़िन्दगी तो तभी जी ली
जब साथ-साथ खेले हैं।

Those were the best days of my life….

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz