लेखक परिचय

पंकज त्रिवेदी

पंकज त्रिवेदी

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under कविता.


loveसींचा था मैंने उस रिश्ते को

अपने ही हाथों मे संभाला था उसे

किसी फूल की तरह

 

समझदार तो था मगर

हरबार हौसला बढाता रहा मैं

वो आगे बढता रहा

 

आगे बढते हुए वो

इतना आगे निकल गया कि अब

वो मुडकर भी नहीं देख पाता

 

गिला वो नहीं कि

वो आगे बढ़ गया मगर

एक सपना बोया था हमने मिलकर

आज वो भी दरख़्त बन गया मगर

वो खुद से हरापन सोखने लगा है

Leave a Reply

1 Comment on "कितने प्यार से"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
बीनू भटनागर
Guest
बीनू भटनागर

अति सुन्दर अभिव्यक्ति

wpDiscuz