लेखक परिचय

प्रवक्‍ता ब्यूरो

प्रवक्‍ता ब्यूरो

Posted On by &filed under मनोरंजन.


भारतीय और पाकिस्तानी मीडिया में इन दिनों सानिया मिर्जा और क्रिकेटर शोएब मलिक के निकाह की खबर खूब सुर्खियां बटोर रही है…ऐसा नहीं है कि केवल मीडिया ही इस खबर को कवरेज दे रहा है…राजनीतिक दल और धर्म के रखवाले भी चुप बैठने की मुद्रा में नहीं हैं.. बिना सलाह मांगे लोग मीडिया के सामने तरह-तरह की सलाह देते नज़र आ रहे है….इन सब के बीच ये जानना जरूरी है कि आखिर दोनों मुल्कों में आम लोगों की राय क्या है… भारत-पाकिस्तान से जुड़ी कोई भी घटना दोनों मुल्कों के नागरिकों के लिए सरोकार का विषय बन जाती है। इसी कड़ी में भारत-पाक प्रेम प्रसंगों पर आधारित भारतीय फिल्में भी आती हैं। बॉलीवुड में सबसे पहले सरहद पार प्रेम कहानी को रुपहले पर्दे पर उतारा राज कपूर ने । हालांकि फिल्म बनने के पहले ही राजकपूर की मौत हो गई..इसके बाद उनके बेटे रणधीर कपूर ने फिल्म को पूरा किया…इस फिल्म का नाम था हिना…फिल्म का नायक हिन्दुस्तानी और नायिका पाकिस्तानी थी…फिल्म में नायक और नायिका मिल नहीं पाते ..और नायिका प्यार के नाम पर अपनी जान की कुर्बानी दे देती है….हिना ने बॉक्स ऑफिस पर तो धमाल मचाया ही,,,, पाकिस्तान में भी अच्छा बिजनेस किया…मतलब साफ था कि दोनों मुल्कों के लोगों ने इस फिल्म को पसंद किया…ऐसी ही एक फिल्म आई रिफ्यूजी….रिफ्यूजी का नायक भारत-पाक सीमा का पार करवाने का काम करता था…इस फिल्म की नायिका करीना कपूर पाकिस्तानी लड़की की भूमिका में है…जिसे हिन्दुस्तानी लड़के अभिषेक बच्चन से प्यार हो जाता है… वो अपने प्रेमी के लिए वतन छोड़ने को तैयार हैं…हिना में नायक और नायिका एक-दूसरे से विवाह तो नहीं कर पाते हैं…लेकिन रिफ्यूजी में नायक-नायिका एक-दूसरे से मिल जाते है…हालांकि दमदार कहानी होने के बावजूद कमजोर अभिनय फिल्म को ले डूबा…ऐसी ही एक फिल्म आई गदर एक प्रेमकथा…इस फिल्म में भारत-पाक विभाजन के दौरान हुई घटनाओं को बखूबी दर्शाया गया …गदर अपने परिवार से बिछड़ गई लड़की की कहानी है..जिसे बहादुर सिख नौजवान बचाता है …जिसके पूरे परिवार को पाकिस्तान में विभाजन के दौरान हुए दंगों में मार दिया गया था…

इसके बावजूद नायक ने नायिका के मुस्लिम होने पर भी उसकी मदद की…धीरे-धीरे दोनों के बीच प्यार हुआ और शादी हो गई…लेकिन फिल्म क्लाईमेक्स पर तब पहुंचती है..जब नायिका अपने ओहदेदार पिता के घर पाकिस्तान जाती है…और घर वाले उसे उसके पति और बच्चों से दूर करने की कोशिश करते हैं…लेकिन वो घर वालों के खिलाफ जाकर अपने पति के साथ अपना मुल्क छोड़ देती है… नायक अपने प्यार को पाने के लिए सरहद की दीवार को पार करके अपनी बीबी को वापस हिंदुस्तान लाने में कामयाब हो जाता है। इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए..और फिल्म सुपर-डुपर हिट रही…दोनों मुल्कों के दर्शकों ने फिल्म की खूब तारीफ की…इसके बाद बॉक्स ऑफिस पर यशराज फिल्म की वीर-जारा आई…इस फिल्म ने भी अच्छी कामयाबी हासिल की..इस फिल्म में कई उतार चढ़ाव देखने को मिले…फिल्म में वीर औऱ जारा के सच्चे प्यार को मशहूर लैला-मजनू के प्यार से भी कहीं आगे दिखाया गया है। इस फिल्म में नायक और नायिका ने एक-दूसरे के लिए अपना जीवन ही समर्पित कर दिया। वीर ने जहां एक पाकिस्तानी लड़की जारा की इज्जत को बचाने की खातिर ताउम्र कैद की सजा को हसंते-हंसते कुबूल कर लिया तो वहीं जारा ने वीर के मरने की खबर पाकर उसके मां-बाप का सपना पूरा करने के लिए पाकिस्तान छोड़ भारत वीर के घर जा बसी। नायक पाकिस्तान की जेल में वर्षों बंद रहा…उसकी रिहाई की वकालत किसी और ने नहीं बल्की पाकिस्तानी वकील ने की…बड़ी जद्दोजहद के बाद नायक और नायिका को मिलाया… फिल्म ने दोनों मुल्को में खूब धूम मचाई…. रूपहले पर्दे पर भारत के वीर और पाकिस्तान की जारा की प्रेम कहानी को दर्शकों ने खूब सराहा लेकिन असल जिंदगी में भी सरहद पार की प्रेम कहानियां काफी सनसनीखेज रही, जिसकी ताजा कड़ी शोएब मलिक और सानिया मिर्जा हैं, जिनके अप्रैल में निकाह करने की खबरें हैं। पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेट कप्तान शोएब और भारत की टेनिस सनसनी सानिया की निकाह की खबरों ने एक बार फिर क्रिकेटरों के विदेशी बालाओं के प्रति प्रेम को सुर्खियों में ला दिया, जो एक समय काफी परवान चढ़ा था। इस तरह से पीछे तीन-चार दशकों में बन रही फिल्मों में जब नायक और नायिका के बीच के प्रेम संबंध और विवाह संबंधों को आम आदमी बिना हिचक के स्वीकार कर रहे हैं…और उनका फिल्म को दिलचस्पी के साथ देखना उनकी सोच को दर्शाता है….तो सवाल ये उठता है..कि रियल लाईफ में शोएब और सानिया के प्रेम संबंध और अब निकाह को लेकर क्यों हायतौबा मचाई जा रही है…ये समझ से परे है…चूंकि आम लोगों को इस विवाह से समस्या नहीं है…तो चंद मतलब परस्तों की वजह से शादी में टांग अड़ाना कहा तक जायज है…ये सवाल अहम है..जिसका जवाब मतलब परस्तों को देना होगा… किसी शायर ने ठीक ही कहा है…बेगाने की शादी में अब्दुल्ला दीवाना……..शादी शोएब और सानिया को करनी है लेकिन सरोकार मीडिया को ज्यादा है।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz