लेखक परिचय

कन्हैया कुमार झा

कन्हैया कुमार झा

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़.


kkrनई दिल्ली,। कोलकाता नाइटराइडर्स के स्पिनर वेस्टइंडीज के सुनील नारायण को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने संदिग्ध ऑफ स्पिन गेंदबाजी पर लगे प्रतिबंध मामले में राहत दे दी है जिसके बाद वह मौजूदा आईपीएल सत्र में पूरी तरह से गेंदबाजी के लिए स्वतंत्र होंगे, लेकिन इसी के साथ उन्हें आखिरी बार चेतावनी भी जारी की गई है। गत चैंपियन केकेआर के गेंदबाज सुनील को 28 अप्रेल को इंडियन प्रीमियर लीग में ऑफ स्पिन गेंदबाजी से प्रतिबंधित कर दिया गया था।
बीसीसीआई के सचिव अनुराग ठाकुर ने गुरूवार जारी एक विज्ञप्ति में इसकी जानकारी देते हुए कहा कि बीसीसीआई की संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन समिति ने प्रतिबंध के साथ नारायण को कहा था कि कैरेबियाई ऑफ स्पिनर समिति से आधिकारिक समीक्षा को लेकर अपील कर सकते हैं। इसके बाद सुनील ने समीक्षा के लिए अपील की थी और इसके अनुसार कैरेबियाई गेंदबाज की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद(आईसीसी) और बीसीसीआई की मान्यता प्राप्त चेन्नई स्थित रामचंद्रन आर्थोस्कोपी एंड स्पोट््र्स साइंस सेंटर(एसआरएसएससी) में तीसरी बार सुनील का बायोमैकेनिकल परीक्षण किया गया। इस बार यहां सुनील के परिवर्तित एक्शन की समीक्षा की गई।
बीसीसीआई विज्ञप्ति के अनुसार ऑफ स्पिनर की समिति द्वारा की गई पहली आधिकारिक समीक्षा के तहत सुनील का नया परिवर्तित एक्शन नियम 24.2 का उल्लंघन नहीं है। ऎसे में बोर्ड ने निर्णय किया है कि नारायण का नाम आईपीएल में निलंबित संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन नीति की चेतावनी सूची से हटा दिया जाए और इसके साथ उन्हें टूर्नामेंट में ऑफ स्पिन सहित सभी तरह की डिलीवरी करने की अनुमति दे दी गई है। हालांकि बीसीसीआई ने कोलकाता के गेंदबाज को आईपीएल के संदिग्ध गेंदबाजी एक्शन के नियम 4.9 के तहत चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि भविष्य में यदि उनके खिलाफ आगे संदिग्ध गेंदबाजी की शिकायत मिलती है तो उन्हें शेष सत्र में गेंदबाजी से प्रतिबंधित कर दिया जाएगा।
सुनील को साथ ही उनके नए परिवर्तित गेंदबाजी एक्शन में और किसी तरह का बदलाव नहीं करने की भी हिदायत दी गई है। गौरतलब है कि केकेआर के गेंदबाज सुनील की विशाखापट्नम में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ 22 अप्रेल को खेले गए मैच में संदिग्ध गेंदबाजी के लिए शिकायत की गई थी। इसके बाद चेन्नई में उनके परीक्षण में उन्हें दोषी पाया गया था, जिसके बाद आईपीएल सहित बीसीसीआई आयोजित मैचों में सुनील पर ऑफ स्पिन करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था, लेकिन अहम पड़ाव पर पहुंच चुके टूर्नामेंट में एक बार फिर सुनील को सभी तरह की डिलीवरी करने की अनुमति मिलना एक बड़ी राहत है। इससे पहले बीसीसीआई ने 2014 में चैंपियंस लीग ट्वंटी 20 टूर्नामेट में भी सुनील के “दूसरा” पर प्रतिबंध लगा दिया था और उन्हें कोलकाता नाइटराइडर्स के लिए फाइनल में खेलने की भी अनुमति नहीं दी गई थी।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz