लेखक परिचय

डॉ. कुलदीप चन्‍द अग्निहोत्री

डॉ. कुलदीप चन्‍द अग्निहोत्री

यायावर प्रकृति के डॉ. अग्निहोत्री अनेक देशों की यात्रा कर चुके हैं। उनकी लगभग 15 पुस्‍तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। पेशे से शिक्षक, कर्म से समाजसेवी और उपक्रम से पत्रकार अग्निहोत्रीजी हिमाचल प्रदेश विश्‍वविद्यालय में निदेशक भी रहे। आपातकाल में जेल में रहे। भारत-तिब्‍बत सहयोग मंच के राष्‍ट्रीय संयोजक के नाते तिब्‍बत समस्‍या का गंभीर अध्‍ययन। कुछ समय तक हिंदी दैनिक जनसत्‍ता से भी जुडे रहे। संप्रति देश की प्रसिद्ध संवाद समिति हिंदुस्‍थान समाचार से जुडे हुए हैं।

Posted On by &filed under महत्वपूर्ण लेख.


-डॉ. कुलदीप चन्द अग्निहोत्री-

ginali
जो जम्मू कश्मीर के इतिहास भूगोल में रुचि रखते हैं , उन्होंने तो सैयद अली शाह का नाम और काम अवश्य सुना होगा । उन्हीं अली शाह को अब पासपोर्ट चाहिये । लेकिन पासपोर्ट के लिये एक निश्चित प्रक्रिया है । छपा हुआ आवेदन पत्र भरना पड़ता है । उसमें अपना , अपने पिता का , माता का नाम लिखना पड़ता है । उसके बाद जन्म तिथि लिखनी होती है । उसके बाद अपनी राष्ट्रीयता लिखनी पड़ती है । यानि आप किस देश के रहने वाले हैं । इसके बाद अपना पूरा पता लिख कर अपने चार फ़ोटो साथ लगाने पड़ते हैं । यह सब कर लेने के बाद निर्धारित फ़ीस जमा करवानी होती है । आजकल बायोमीट्किक निशान भी देना होता है ।
यह तो है पासपोर्ट बनाने के लिये दिये जाने वाले आवेदन की प्रक्रिया । उसके बाद सरकार यह देखती है कि आवेदन करने वाले शख़्स पर कोई आपराधिक मामला तो दर्ज नहीं है । क्या वह ज़मानत पर छूटा हुआ प्राणी तो नहीं है ? इसके साथ सरकार यह भी जाँच करवा लेती है कि पासपोर्ट माँगने वाला आदमी कहीं विदेश में जाकर देश के ख़िलाफ़ बोलना तो नहीं शुरु कर देगा ? यदि सरकार को ऐसी आशंका हो तो वह पासपोर्ट देने से इन्कार भी कर देती है ।

अब मामला सैयद अली शाह गिलानी का आता है । उनकी बेटी सउदी अरब के शहर जेद्दाह में रहती है और इन दिनों बीमार  है । अली शाह बेटी का हाल चाल जानने के लिये वहाँ जाना चाहते हैं । उन्होंने पासपोर्ट के लिये आवेदन दिया है , लेकिन अभी तक पासपोर्ट बन कर आया नहीं है । पीडीपी और सीपीएम को इससे बहुत चिन्ता हो रही है । सी पी एम के प्रदेश विधान सभा में एकलौते विधायक और पी डी पी के मुख्यमंत्री सैयद मुफ़्ती मोहम्मद ने कहा है कि मानवीय आधार पर सैयद अली  शाह को पासपोर्ट दे देना चाहिये । एक सैयद की दूसरे सैयद के प्रति यह सहानुभूति समझ में आती है । बैसे भी बीमार बेटी की मिजाजपुर्सी के लिये जाना हो तो उसमें अड़चन डालना किसी भी हालत में ठीक नहीं कहा जा सकता । लेकिन मानवीय आधार पर तो भारत सरकार केवल इतना ही कर सकती है कि चाहे अली  शाह पर कितने भी आपराधिक मामले देश में क्यों न चल रहे हैं, उन्हें पासपोर्ट दे दिया जाना चाहिये । वैसे भी उनके पाकिस्तान को भाग जाने का ख़तरा तो बिल्कुल नहीं है । क्योंकि पाकिस्तान के लिये भी ये गिलान वाले सैयद तब तक ही लाभदायक हैं , जब तक वे हिन्दुस्तान में डटे हुये हैं । एक बार पाकिस्तान में ही आ विराजे तो उनके लिये किस काम के ? इसे सैयद अली शाह गिलानी से अच्छी तरह और कौन जान सकता है ? दूसरा मुद्दा है कि भारत सरकार को आशंका हो कि वे बाहर जाकर भारत के ख़िलाफ़ विष वमन कर सकते हैं । मानवीय आधार पर भारत सरकार उसे भी नज़रअन्दाज़ कर सकती है । क्योंकि भारत के ख़िलाफ़ जितना वे भारत में रहकर ही बोलते हैं , उससे ज़्यादा बाहर जाकर भी क्या बोलेंगे ? यहाँ भी वे पाकिस्तान के झंडे फहराते हैं और जिए पाकिस्तान के नारे लगाते हैं , सउदी अरब में जाकर भी ज़्यादा से ज़्यादा और चिल्लाकर यही नारे लगा सकते हैं । इसलिये यदि पी डी पी वाले सैयद की बात मान भी ली जाये तो गिलान वाले सैयद को इसी क्षेत्र में भारत सरकार मानवीय आधार पर रियासत दे सकती है ।

लेकिन पासपोर्ट लेने के लिये प्रक्रिया का जो पहला हिस्सा है वह तो सैयद अली शाह को ख़ुद ही भरना पड़ेगा , उसका तो मानवीय आधार पर रियासत देने से कोई ताल्लुक़ कुछ नहीं है । मसलन आवेदन के साथ चार फ़ोटो जमा करवाने होते हैं , आख़िर वे तो अली शाह को जमा करवाने ही पड़ेंगे , उसका तो मानवीय आधार से कोई सम्बंध नहीं है । हाँ, यह अलग बात है कि सैयद अली शाह गिलानी अब यही तर्क देना शुरु कर दें कि भारत सरकार की इतनी हिम्मत कि मुझसे फ़ोटो माँग रही है ? मुझे तो देश के लोग अच्छी तरह जानते पहचानते हैं । हर रोज़ मेरी समाचार पत्रों में फ़ोटो छपती ही रहती है । इसलिए पासपोर्ट पर मेरी फ़ोटो की कोई जरुरत नहीं है । मुझसे फ़ोटो माँगना तो इस देश में रह रहे सैयदों से भेदभाव है । आख़िर पासपोर्ट के आवेदन पत्र पर फ़ीस भी जमा करवानी होती है । हज़ार पाँच सौ रुपये की वह फीस भी गिलानी को ख़ुद ही भरनी होगी । मानवीय आधार पर वह फ़ीस तो भारत सरकार मुआफ़ कर नहीं सकती । आवेदन पत्र में एक कालम राष्ट्रीयता का भी होता है । अब सैयद अली शाह गिलानी उस कालम को भी ख़ाली छोड़ रहे हैं । वे अपने आप को भारत का नागरिक नहीं मानते , ऐसा उनका कहना है । इसी तर्क के आधार पर वे अपने आवेदन पत्र में नागरिकता का कालम ख़ाली छोड़ रहे हैं । ताज्जुब की बात तो यह है कि गिलानी जिस देश से अपना पासपोर्ट बनाने को कह रहे हैं , स्वयं को वे उस देश का नागरिक नहीं मानते । यह तो कोई बच्चा भी बता देगा कि जब वे अपने आप को भारत का नागरिक ही नहीं मानते तो भारत सरकार उनको पासपोर्ट कैसे दे सकती है ? कोई भी देश अपने देश के नागरिकों को ही पासपोर्ट दे सकता है , किसी अन्य को नहीं । १९४७ में जब देश का विभाजन हुआ था तो उत्तर प्रदेश , बिहार, मध्य प्रदेश , जम्मू , राजस्थान , कश्मीर इत्यादि स्थानों से बहुत से मुसलमान पाकिस्तान को चले गये थे । चाहे इन प्रदेशों का विभाजन नहीं हुआ था । लेकिन उन मुसलमानों का कहना था कि वे अब भारत को अपना देश नहीं मानते । वे पाकिस्तान को अपना देश मानते हैं । वे ईमानदारी से पाकिस्तान चले गये । हो सकता है कुछ मुसलमान जो विभाजन के बाद, मन से भारत को अपना देश न स्वीकारते हों , लेकिन उनमें इतनी ईमानदारी न बची हो कि वे पाकिस्तान में चले जायें । गिलान वाले सैयद अली शाह द्वारा डंके की चोट पर यह कहने से कि मैं भारत का नागरिक नहीं हूँ , यही प्रतीत हो रहा है । इस स्थिति में , प्रदेश के मुख्यमंत्री सैयद मुफ़्ती मोहम्मद , जो सैयद अली शाह को पासपोर्ट दिये जाने की वकालत कर रहे हैं, क्या बता सकेंगे कि इस मुद्दे पर मानवीय आधार क्या हो सकता है ?

अली शाह का कहना है कि उनके पासपोर्ट को लेकर विभिन्न राजनैतिक दल राजनीति कर रहे हैं । लेकिन हालात संकेत कर रहे हैं कि वे जानबूझकर कर अपनी बीमार बेटी के नाम पर अपनी राजनीति चमका रहे हैं । वे बीमार बेटी के नाम पर कश्मीरियों की सहानुभूति बटोरने का प्रयास कर रहे हैं । गिलानी जानते हैं कि घाटी में उनका राजनैतिक आधार सिमटता जा रहा है । उनके समर्थकों की संख्या भी घटती जा रही है । ऐसी स्थिति में उन्होंने अपनी बीमार बेटी के नाम पर पासपोर्ट की राजनीति करनी शुरु कर दी है । गिलानी तो पढ़े लिखे बुज़ुर्ग हैं । इतना तो जानते ही हैं कि नागरिकता की घोषणा के बिना कोई भी देश अपने नागरिक को पासपोर्ट जारी नहीं करेगा । इससे पूर्व उनको अनेक बार पासपोर्ट मिल चुका है और वे हर बार अपने आप को भारत का नागरिक घोषित करते हैं । इस बार उन्होंने जानबूझकर कर नागरिकता का कालम ख़ाली छोड़ा ताकि उनको पासपोर्ट जारी न हो सके और वे अपनी बीमार बेटी के नाम पर अपनी राजनैतिक रोटियाँ सेंक सकें । इस पकती उम्र में भी अली शाह गिलानी ऐसा घटिया खेल खेल रहे हैं , यह निश्चय ही दुख की बात है और सैयद मुफ़्ती मोहम्मद यह जानते बूझते भी दूसरे सैयद की मदद कर रहे हैं , यह और भी चिन्ता का विषय है ।

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz