मेट्रो पर भी ब्‍लूलाईन का रंग चढ़ रहा है

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

मेरे मित्र पवन चंदन ने आज सुबह वेलेंटाईन डे आने से पहले और रोज डे यानी गुलाब दिन जाने के बाद जो किस्‍सा सुनाया, उससे मेरे नथुने फड़कने लगे