मैं जिंदा रह सकता हूं

Posted On by & filed under प्रवक्ता न्यूज़

तपतीधरती,तपताअम्बर,मैं तिल-तिल सह सकता हूं | इन दोनों के बीच में तप कर,मैं जिंदा रह सकता हूं | जिन से मेरे दिल के रिश्ते, देस गए तो भूल गए, गैरों को परदेस में कैसे, मैं अपना कह सकता हूं | खुशियां बांटीं गैरों को भी, रख कर दोनों हाथ खुले, मैं तो गम के साथ… Read more »