मैं हूँ अराजक

Posted On by & filed under कविता

रोज यही बस खबर दिख रही टी .वी .और अखबारों में, मेरे देश की बेटी लुटती आश्रम और गलियारों में |   कुछ लोग मुझे कहते हैं अराजक जब आवाज उठाता हूँ उनकी भाषा में दिया जवाब सत्ता का लोभी कहलाता हूँ|   पहले राजा अँधा था अब गूंगा बहरा आया हैं, हर बहन बेटी… Read more »