पेट में घुलता ज़हर

Posted On by & filed under जरूर पढ़ें

-अनुराग सिंह शेखर- नेस्ले के अतिलोकप्रिय उत्पाद मैगी में जब लेड 2.5 पीपीएम (पार्टिकल पर मिलियन) से अधिक व सोडियम ग्लूटामेट भी निर्धारित मात्रा से अधिक पाया गया तो लोगों को एहसास हुआ कि जिस मैगी को दो मिनट में बनने वाले फास्टफूड के रूप में अपना रहे थे वह वास्तव में दीर्घकालिक ज़हर का कार्य कर रही थी… Read more »

भारतीय बाजार के खिलाफ विदेशी षड्यंत्र

Posted On by & filed under जरूर पढ़ें

-सुरेश हिन्दुस्थानी- -केवल मैगी ही क्यों अन्य विदेशी उत्पादों की भी जांच हो- भारत हमेशा से ही विदेशी कंपनियों की साजिश का शिकार बना है। आज मैगी का मामला भले ही सामने आ गया हो, लेकिन जिस प्रकार से विदेशी कंपनियाँ अपने उत्पादों में रासायनिक तत्वों का उपयोग करतीं हैं, वह मानव के जीवन के… Read more »

मैगी प्रकरण के बहानेः पर्यावरणीय प्रश्न

Posted On by & filed under टॉप स्टोरी

-अरुण तिवारी- मैगी नूडल्स में सीसा यानी लैड की अधिक मात्रा को लेकर उठा बवाल, बाजार का खेल है या स्थिति सचमुच, इतनी खतरनाक है ? इस प्रश्न का उत्तर तो चल रही जांच और बाजार में नूडल्स के नये ब्रांड आने के बाद ही पता चलेगा। फिलहाल, मांग हो रही है कि इस जांच… Read more »