“पुरुष स्त्री की तरह ‘प्रेम’ नहीं कर सकता”

Posted On by & filed under प्रवक्ता न्यूज़

मैत्रेयी पुष्पा “पुरुष प्रेम कहानी नहीं लिख सकते, क्योंकि स्त्री ही प्रेम के कोमल भावनाओं को बेहतर तरीके से समझ सकती है। प्रेम को नकारना और प्रेम को छिपाना अपराध है। हम प्रेम को छिपाकर उसे अपराध की संज्ञा दे देते हैं, जो कि उचित नहीं है। अगर प्रेम है तो उसे खुलेआम स्वीकार करना… Read more »

मैत्रेयी पुष्पा के बहाने स्त्री आत्मकथा के पद्धतिशास्त्र की तलाश

Posted On by & filed under आलोचना

जगदीश्‍वर चतुर्वेदी आत्मकथा में सब कुछ सत्य नहीं होता बल्कि इसमें कल्पना की भी भूमिका होती है। आत्मकथा या साहित्य में लेखक का ‘मैं’ बहुत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। यह ‘बहुआयामी होता है। उसी तरह लेखिका की आत्मकथा में ‘मैं’ का एक ही रूप नहीं होता। बल्कि बहुआयामी ‘मैं’ होता है। मैत्रेयी पुष्पा के… Read more »

सेक्स की तलाश में नहीं रहती मेरे उपन्यासों की स्त्री : मैत्रेयी पुष्पा

Posted On by & filed under साक्षात्‍कार

साल-2007 के आख़िरी दिनों या फिर 08 के शुरुआती महीनों में कभी, दिन-तारीख़ तो अब याद नहीं…दैनिक जागरण के अपने स्तंभ बेबाक बातचीत के लिए मैत्रेयी पुष्पा से ये गुफ्तगू की थी. आज के संदर्भों में भी ये सवाल उतने ही ख़रे हैं… – चण्डीदत्त शुक्ल मैं अपना टेप रिकार्डर खोलती हूं, इसमें उन सच्ची… Read more »