जो कभी ‘संघम शरणम गच्छामि’ हुआ करते थे वे अब सभी मोदी शरणम गच्छामि हो रहे हैं !

Posted On by & filed under टॉप स्टोरी

संसार की सभी सभ्यताओं में -धार्मिक और सांस्कृतिक मूल्यों में अंतर्निहित कुछ ऐंसे तत्व भी है जो देश और दुनिया   में अमन -भाईचारा  और  मानवीय  चारित्रिक उत्कृष्टता  की  बेहतरीन परम्पराएँ  पेश करते हैं।  भारत  तो चूँकि  त्यौहारों का  ही देश है , इसलिए यहां की सभी  सामाजिक ,सांस्कृतिक और लौकिक धाराओं  के संगम पर अनेकता में एकता   ही भारतीय संस्कृति की मूलभूत विशेषता… Read more »