मोबाइल से पानी

Posted On by & filed under कविता

-प्रभूदयाल श्रीवास्तव-   मोबाइल से पानी मोबाइल का बटन दबा तो, लगा बरसने पानी। धरती पर आकर पानी ने, मस्ती की मनमानी| चाल बढ़ी जब मोबाइल पर, लगा झराझर झरने। नदी ताल पोखर झरने सब, लगे लबालब भरने। और तेज फिर और तेज से, चाल बढ़ाई जैसे। आसमान से लगे बरसने, जैसे तड़-तड़ पैसे। किंतु… Read more »

साइबर युग के ​’सियाराम‘…!

Posted On by & filed under मीडिया

-तारकेश कुमार ओझा- हिंदी पट्टी के गांव – देहात की शादियों का अनुभव रखने वाले जानते हैं कि एेसे आयोजनों के नेपथ्य में कुछ महत्वपूर्ण लेकिन उपेक्षित पात्रों की अहम भूमिका होती है। सियाराम, रामफेर या रामसुमेर जैसे नामों वाले इन किरदारों की खासियत यह होती है कि इनके बगैर कोई रस्म पूरी नहीं हो… Read more »

औचित्य ऐसे अनचाहे संदेशों का ?

Posted On by & filed under समाज

-निर्मल रानी- वर्तमान युग में कंप्यूटर क्रांति ने निश्चित रूप से आधुनिक युग का नया एवं अद्भुत सूत्रपात किया है। मानव जाति इस कंप्यूटर क्रांति का लगभग प्रत्येक क्षेत्र में लाभ उठा रही है। कंप्यूटर का दखल इस समय मानव संबंधित लगभग प्रत्येक क्षेत्र में इतना अधिक हो गया है कि संभवत: दुनिया का कोई… Read more »

उपभोक्ताओं की जेब पर डाका डालती मोबाईल कंपनियां

Posted On by & filed under टेक्नोलॉजी

निर्मल रानी इसमें कोई दो राय नहीं कि संचार क्रांति के वर्तमान दौर में मनुष्य को तमाम प्रकार की सूचनाएं मनचाहे समय व स्थान पर प्राप्त होने लगी हैं। वर्तमान युग को कंप्यूटर युग कहा जा रहा है। इस युग में कंप्यूटर से संबद्ध तमाम प्रकार की सुविधाएं आम लोगों को प्राप्त हो रही हैं।… Read more »

जिंदगी बन गए हो तुम !

Posted On by & filed under टेक्नोलॉजी

रेडिएशन के खतरों के बावजूद मोबाइल पर बरस रहा है लोगों का प्यार संजय द्विवेदी यह दौर दरअसल मोबाइल क्रांति का समय है। इसने सूचनाओं और संवेदनाओं दोनों को कानों-कान कर दिया है। अब इसके चलते हमारे कान, मुंह, उंगलियां और दिल सब निशाने पर हैं। मुश्किलें इतनी बतायी जा रही हैं कि मोबाइल डराने… Read more »

हास्य-व्यंग्य/ झूठ की मोबाइल अकादमीः पिद्दी राजा

Posted On by & filed under व्यंग्य

पंडित सुरेश नीरव सच बोलने के लिए दिमाग की जरूरत नहीं पड़ती है। जब से मैंने यह महावाक्य पढ़ा और सुना है तभी से जितने भी दिमागी-विद्वान लोग हैं, उन्हें मैं झूठा मानने लगा हूं। और दुनिया के जितने भी झूठे हैं,उन्हें विद्वान। इस समीकरण के मुताबिक जो जिस दर्जे का झूठा वो उसी दर्जे… Read more »

मोबाइल में ईनाम का मैसेज, कहीं पछताना न पड़ जाए

Posted On by & filed under साहित्‍य

आप उन खबरों को भूले तो नहीं होंगे, जिनमें ई-मेल के माध्यम से ठगने की घटनाएं प्रकाश में आई थीं। लेकिन, आने वाले दिनों में ठगी के ऐसे प्रकरण सामने आए, जिनका कारण मोबाइल का इन-बॉक्स रहा हो, जो कोई आश्चर्य नहीं। कारण, जिस तरह के मेल ई-मेल पर मिलते रहे हैं, उसी तरह के… Read more »