वैचारिक खेमेबाजी और मोर्चे पर संघ परिवार

Posted On by & filed under राजनीति

उमेश चतुर्वेदी कामकाज और गुणदोष के आधार पर सरकारों की आलोचना से कोई भी लोकतांत्रिक समाज इनकार नहीं कर सकता । स्वस्थ आलोचना सरकारों की नीयत को नियंत्रित करने का लोकतांत्रिक तरीका होती हैं। लेकिन केंद्र में शपथ लेने के बाद से ही जिस तरह नरेंद्र मोदी सरकार आलोचकों के तीखे निशाने पर है, क्या… Read more »