यथास्थितिवादी न बने रहें प्रयोगधर्मा व्यक्तित्व अपनाएँ

Posted On by & filed under चिंतन

– डॉ. दीपक आचार्य जो लोग आए हैं उन्हें कभी न कभी तो जाना ही है। अपने पूरे जीवनकाल में ढेरों अवसर ऐसे आते हैं जब हमें कुछ न कुछ नया सोचने और करने को मिलता है। जो लोग नित नूतनता को जीवन की सारी चुनौतियों से ऊपर मानकर नए-नए प्रयोगों को अपने जीवन में… Read more »