यमराज एडमिट हैं

Posted On by & filed under व्यंग्य

-अशोक गौतम- मुहल्ले  को ताजी सब्जी उधार- सुधार दे खुद पत्तों से रोटी खाने वाला रामदीन कमेटी के जमादार  को  रोज- रोज नाली के ऊपर सब्जी की दुकान लगाने के एवज में दो- दो किलो  सब्जी दे तंग आ गया तो उसने यमराज से गुहार लगाई,‘ हे यमराज महाराज! या तो मुझे इस देस से… Read more »