यमराज एडमिट हैं

Posted On by & filed under व्यंग्य

-अशोक गौतम- मुहल्ले  को ताजी सब्जी उधार- सुधार दे खुद पत्तों से रोटी खाने वाला रामदीन कमेटी के जमादार  को  रोज- रोज नाली के ऊपर सब्जी की दुकान लगाने के एवज में दो- दो किलो  सब्जी दे तंग आ गया तो उसने यमराज से गुहार लगाई,‘ हे यमराज महाराज! या तो मुझे इस देस से… Read more »

वेलकम टु न्यू यमराज ऑफ इंडिया!

Posted On by & filed under व्यंग्य

अशोक गौतम जिन जिन ने सरकार को सरकार बनाने में मदद की थी सरकार ने जनता के प्रति ईमानदार रहने की शपथ खाने के बाद सबसे पहले उनको ठीक ठीक जगह फिट कर अपने वचन का पालन किया ताकि उनका तो कम से कम सरकार पर विश्वास बना रहे। इस प्रकार सरकार में कोई आठ… Read more »