यमलोक में करप्शन का शुभारंभ

Posted On by & filed under व्यंग्य

अशोक गौतम ….वे गुजरे तो अच्छा लगा कि चलो एक दिमाग खाने वाला तो गया। असल में आदमी तभी तक अच्छा लगता है जब तक वह खिलाता रहे। कोई खाने लगे तो बंदा दूसरे दिन ही उसके जाने की कामना करने लगता है। और भगवान ने मेरी सुन ली। उनके जाने के बाद मैंने ही… Read more »