यशोदानंदन-५२

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

चाणूर और मुष्टिक के गतप्राण होने के उपरान्त कूट, शल और तोषल नामक भीमकाय राजमल्लों ने श्रीकृष्ण-बलराम पर एकसाथ आक्रमण कर दिया। कूट बलराम के एक घूंसे का भी प्रहार नहीं सह सका। वह वही ढ़ेर हो गया। शल तेजी से यशोदानंदन श्रीकृष्ण की ओर बढ़ा। मुस्कुराते हुए श्रीकृष्ण ने कौतुक करते हुए कंदुक की… Read more »