युवाओं के लिए वरदान है प्रवक्ता

Posted On by & filed under जन-जागरण

शुरूआती दौर में प्रवक्ता के लिए एक बार लेख भेजा, नहीं छपा.  दूसरी और तीसरी बार भी नहीं छपा. गुस्सा आया कि कितना मेहनत से लेख लिखता हूँ, भेजता हूँ, लेकिन प्रवक्ता.कॉम पर छपता नहीं. पता नहीं क्या समझते हैं इसके सम्पादक अपने आप को. वेब पोर्टल ही तो है. अगर एक बार मेरा लेख… Read more »