योनिज तो हम सभी है..!

Posted On by & filed under कविता

योनि के जाये तो हम सभी है, पवित्रता ,अपवित्रता .. यह तो हम पुरूषों की अप्राकृतिक बकवास है | सच तो यही है कि हम सभी पिता के  लिंग और माहवारी से निवृत मां की योनि के सुखद मिलन की सौगात है | मां के रक्त ,मांस ,मज्जा में नवमासी विश्रांति के बाद उसी योनि… Read more »