हसना झूठी बातों पर

Posted On by & filed under कविता, साहित्‍य

नयनों में छायी तृष्णा, सूनापन मन के जज्बातों पर, धीरे-धीरे सीख गये हम, हसना झूठी बातों पर,   कपट भरी इस दुनिया में, रिश्तों को बटते देखा हमने, प्रेम की माला का मोती, एक-एक कर झरते देखा हमने, कल तक जो सब अपने थे, वो आज बेगाने लगते हैं, प्यार भी बंटकर रह गया, बस अवसर… Read more »