हिन्दी के ह्रास का सबब बनी ‘हिंग्लिश’

Posted On by & filed under विविधा

राजेश कश्यप 14 सितम्बर/राष्ट्रीय हिन्दी दिवस विशेष   आजकल राष्ट्रभाषा हिन्दी बेहद नाजुक दौर से गुजर रही है। वैश्विक पटल पर अपनी प्रतिष्ठा को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए विभिन्न चुनौतियों से जूझ रही हिन्दी के समक्ष भारी धर्मसंकट खड़ा हो चुका है। इस धर्मसंकट का सहज अहसास भारत सरकार के गृह मंत्रालय और राजभाषा विभाग… Read more »