हिन्दी बुद्धिजीवियों का फिलीस्तीन के प्रति बेगानापन

Posted On by & filed under आलोचना

-जगदीश्‍वर चतुर्वेदी एक जमाना था हिन्दी में साहित्यकारों और युवा राजनीतिक कार्यकर्त्ताओं में युद्ध विरोधी भावनाएं चरमोत्कर्ष पर हुआ करती थीं, हिन्दीभाषी क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में युद्ध विरोधी गोष्ठियां, प्रदर्शन, काव्य पाठ आदि के आयोजन हुआ करते थे, किंतु अब यह सब परीकथा की तरह लगता है। हिन्दी के बुद्धिजीवियों में अंतर्राष्ट्रीय मानवीय सरोकारों… Read more »