तुष्टीकरण की आग में जल रहे हैं पश्चिम बंगाल के हिंदू

Posted On by & filed under राजनीति

– लोकेन्द्र सिंह रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद, सुभाषचंद्र बोस और रविन्द्र नाथ ठाकुर की जन्मभूमि पश्चिम बंगाल आज सांप्रदायिकता की आग में जल रही है। वहाँ हिंदू समुदाय का जीना मुहाल हो गया है। यह स्थितियाँ अचानक नहीं बनी हैं। बल्कि सुनियोजित तरीके से पश्चिम बंगाल में हिंदू समाज को हाशिए पर धकेला गया है। यह काम पहले… Read more »

मोहन भागवत का हिंदुत्व

Posted On by & filed under विविधा

डॉ. वेदप्रताप वैदिक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया श्री मोहन भागवत ने अपनी मप्र यात्रा के दौरान ऐसा बयान दे दिया है, जिसे लेकर देश में जोरदार विवाद छिड़ जाए तो मुझसे ज्यादा प्रसन्न कौन होगा? मैंने लगभग दस साल पहले छपी मेरी पुस्तक, ‘भाजपा, हिंदुत्व और मुसलमान’ में इसी प्रश्न को उठाया था। मूल… Read more »

लुटता-पिटता और पलायन करता हिंदू

Posted On by & filed under विविधा

वीरेन्द्र सिंह परिहार जिस तरह से बांग्लादेश छोड़कर हिंदू भारत में शरण लेने को बाध्य हैं, उसे देखते हुए अगले तीस वर्षों में बांग्लादेश हिंदू विहीन हो जाएगा। ढाका युनिवर्सिटी में जाने-माने प्रोफेसर डॉ. अब्दुल बरकत के अनुसार औसतन 623 हिंदू प्रतिदिन बांग्लादेश छोड़ रहे हैं। उनके अनुसार यदि इसी तरह पलायन होता रहा तो… Read more »

हिंदू की बदनामी, हिंदू का बदला!

Posted On by & filed under राजनीति

इसरत जहां, साध्वी प्रज्ञा, कर्नल पुरोहित, असीमानंद को मोहरा बना कर कांग्रेस ने मनमोहन सरकार के वक्त अपनी जो राजनीति की उससे सवाल उठता है कि आखिर सोनिया गांधी ने ऐसा क्यों किया या होने दिया? कोई माने या न माने, अपना मानना है कि सोनिया गांधी की कांग्रेस अध्यक्षता के देश-दुनिया में भले कई… Read more »

दंगों का व्याकरण / शंकर शरण

Posted On by & filed under महत्वपूर्ण लेख, विविधा

विभाजन के बाद बचे कटे-छँटे भारत में भी सांप्रदायिक दंगों में सामुदायिक वाद-प्रतिवाद की वही कहानी है। दंगों की दबी-ढँकी रिपोर्टिंग, सरकारी जाँच और न्यायिक आयोगों की रिपोर्टें भी यही बताती हैं कि सांप्रदायिक हिंसा का आरंभ प्रायः मुस्लिमों की ओर से होता है। इस के उलट पाकिस्तान या बंगलादेश में कभी किसी हिन्दू द्वारा… Read more »

रघुनाथ सिंह की दो कविताएं

Posted On by & filed under कविता, महत्वपूर्ण लेख

सत्यमेव जयते  सत्यमेव जयते, सत्यमेव जयते मच रहा है शोर घोर और चारों ओर हमारे सेक्यूलरवादियों में हमारे अंगरेजी मीडिया में और हमारी अफसरशाही में दण्डित करो करो दण्डित बच न पावे भाग न जाये धूर्त है यह बड़ा भारी बोल कर सच कलुषित कर दिया है इसने हमारा सुन्दर प्यारा नारा सत्यमेव जयते, सत्यमेव… Read more »

राहुल गांधी के इस बयान में कुछ भी गलत नहीं है : डॉ. मीणा

Posted On by & filed under राजनीति

हिन्दू शूद्रों और स्त्रियों के ताकतवर होने से महान भारत और हिन्दुत्व कमजोर होता है!  डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’  विकीलीक्स के खुलासे के नाम पर कुछ समय से वेब मीडिया पर इस बात को प्रचारित किया जा रहा है कि कॉंग्रेस के महासचिव राहुल गॉंधी ने यह कहा था कि ‘‘भारत को हिन्दुत्व से खतरा… Read more »

इतना झुके कि घुटने टेक कर भारत तोड़ने पर आमादा ? / प्रवीण तोगडि़या

Posted On by & filed under विविधा

1971 में भारत ने सहयोग देकर बांग्लादेश को पाकिस्तान के चंगुल से मुक्त कराया, उस बांग्लादेश ने वहां के हिन्दुओं की क्या दुर्दशा की, वे सारी सत्य कहानियाँ सबको विदित है। वस्तुतः अखंड भारत में होने के नाते पाकिस्तान हो या बांग्लादेश, भारत ही थे। दुर्भाग्य से कुछ तत्कालीन नेताओं ने राजनीति कर और कुछ… Read more »

ये हैं हिंदुओं के वास्‍तविक दुश्‍मन

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

डॉ. राजेश कपूर डॉ. मीणा जी ने जो मुद्दे उठाए हैं वे सारे तो ठीक से स्पष्ट नहीं होते पर जितने भी मुद्दे समझ आने वाले हैं, उन पर अपनी सम्मति प्रमाणों के आधार पर प्रकट करने का विनम्र प्रयास है. … १. आर्य कहीं बाहर से आये थे, इसके बारे में एक भी ऐतिहासिक प्रमाण… Read more »

केन्द्र सरकार का हिन्दुओं के प्रति घोर अन्याय

Posted On by & filed under राजनीति

पाकिस्तान बनने के पश्चात भी भारत में हिन्दुओं की स्थिति लगातार खराब होती जा रही है- 1. हिन्दुओं की जनसंख्या का प्रतिशत कम करने के लिए मुसलमानों को चार-चार शादीयां और अधिक बच्चे, जबकि माननीय उच्चतम न्यायालय कई बार देश के सभी नागरिकों के लिये Common Civil Code (समान नागरिक संहिता) बनाने का आदेश दे… Read more »