जुल्म तो हमारी सेना पर हो रहा है

Posted On by & filed under विविधा

“गर फ़िरदौस बर रुए ज़मीं अस्त,हमीं अस्त,हमीं अस्त,हमीं अस्त ।” –फारसी में मुगल बादशाह जहाँगीर के शब्द ! कहने की आवश्यकता नहीं कि इन शब्दों का उपयोग किसके लिए किया गया है –जी हाँ कश्मीर की ही बात हो रही है । लेकिन धरती का स्वर्ग कहा जाने वाला यह स्थान आज सुलग रहा है… Read more »