‘झूठ’ की बुनियाद पर महल मत खड़ा कीजिए पंकजजी, अंजाम आप जानते हैं

Posted On by & filed under प्रवक्ता न्यूज़

प्रिय पंकजजी, नमस्‍कार। आपका आरोपयुक्‍त लेख हमें प्राप्‍त हुआ। आपने प्रवक्‍ता के मंतव्‍य पर सवाल उठाये हैं इसलिए संपादक के नाते आपके आरोपों का जवाब देना हमारा दायित्‍व है। “मैं तुम्‍हारे विचारों को एक सिरे से खारिज करता हूं, मगर मरते दम तक तुम्‍हारे ऐसा कहने के अधिकार का समर्थन करूंगा।” ऐसा लोकतंत्र के पुरोधा… Read more »