आत्महत्या से पहले और आत्महत्या के बाद

Posted On by & filed under व्यंग्य

पंडित सुरेश नीरव आज का लेटेस्ट अपडेट- वतन की आबरू खतरे में है। तैयार हो जाओ। और ये भी बता दें कि खतरा बाहर के दुश्मन से नहीं अपने उन खूंखार खबरचियों से है जो कि खबर के रेपर में लपेटकर सनसनी बेचते हैं। इनके लिए बस एक अदद खबर महत्वपूर्ण है। क्योंकि ये खबरफरोश… Read more »