शहीदों की शहादत को शर्मशार किया

Posted On by & filed under शख्सियत

शहादत दिवस

अजीत कुमार सिंह भारतीय क्रांतिकारी आंदोलन का ऐसा नाम जिससे पूरा देश परिचित है। जी हाँ! आज हमारे देश के ऐसी महान विभूति का शहादत दिवस है जिसका नाम लेते ही गर्व से समस्त भारतवासी का सीना चौड़ा हो जाता है। जिन्होंने अपनी अल्प अवस्था में देशभक्ति,आत्मबलिदान,साहस की जो मिसाल प्रस्तुत किया।एक साधारण मनुष्य अपने… Read more »

वीर भगतसिंह का समाजवाद व राष्ट्र-प्रेम

Posted On by & filed under लेख, शख्सियत

 राजेश आर्य ’रत्नेश’ प्रिय पाठकवृन्द ! वर्तमान में वैज्ञानिक सुख-सुविधाओं का उपभोग करता हुआ मानव उनके आविष्कारक वैज्ञानिकों का गुणगान करता हुआ यह भूल जाता है कि उनमें से बहुत से वैज्ञानिक नास्तिक थे अर्थात् संसार को प्रकाश व सुविधा देने के कारण ही उसका सम्मान किया जाता है, नास्तिक होने के कारण नहीं। अपने… Read more »

मैं स्वर्ग से भगत सिंह बोल रहा हूं !!!

Posted On by & filed under आलोचना

  शहीदे आजम भगत सिंह जयंती पर विशेष रामदास सोनी प्यारे भारतवासियों! मैंने तथा मेरे साथी चन्द्रशेखर, बिस्मिल और न जाने कितने अज्ञात शहीदों ने अपनी कुर्बानी देकर प्रिय भारत को परतंत्रता की बेड़ियों से मुक्त करवाया था। हमने हमारा बलिदान इस आशा के साथ किया था कि हमारा देश भारत आजादी पाकर और फलेगा-… Read more »

शहीद-ए-आजम भगत सिंह आतंकवादी थे?

Posted On by & filed under विविधा

विनोद उपाध्याय भारतीय जनमानस पर जितना प्रभाव गांधी का है उतना ही भगत सिंह का भी रहा है। अन्याय और दोहन के खिलाफ प्रतिक्रियावाद के प्रतीक के रूप में भगत सिंह की क्रांतिकारिता कभी ओज तो कभी उत्सर्ग की प्रेरणा देती है। उपनिवेशवादियों से देश की आजादी के लिए फांसी के फंदे को एक ही… Read more »

प्रखर राष्ट्रीय क्रांतिकारी भगत सिंह

Posted On by & filed under विविधा

– मृत्युंजय दीक्षित मात्र 23 वर्ष की अल्पायु में ही फांसी के फंदे पर झूलकर भगत सिंह ने स्वातंत्र्य समर में उदाहरण प्रस्तुत किया जो पूरे विश्व के इतिहास में दुर्लभ है। प्रखर राष्ट्रवादी विचार, चमत्कृत करने वाली दूरदृष्टि, ओजस्वी वाणी दृश्य को बेधने वाली लेखनी और कतृत्व में विद्रोह की लपटें उनकी पहचान है।… Read more »

क्रांतिवीर शहीद-ए-आज़म भगतसिंह

Posted On by & filed under विविधा

भारत की आजादी के इतिहास को जिन अमर शहीदों के रक्त से लिखा गया है, जिन शूरवीरों के बलिदान ने भारतीय जन-मानस को सर्वाधिक उद्वेलित किया है, जिन्होंने अपनी रणनीति से साम्राज्यवादियों को लोहे के चने चबवाए हैं, जिन्होंने परतन्त्रता की बेड़ियों को छिन्न-भिन्न कर स्वतंत्रता का मार्ग प्रशस्त किया है तथा जिन पर जन्मभूमि… Read more »