फंस गए अराजकतावादी भगवंत मान

Posted On by & filed under मीडिया, विविधा

उमेश चतुर्वेदी हिंदुस्तानी सियासत के इतिहास में अगर दो सबसे बड़े अराजकतावादी माने जा सकते हैं तो वे थे डॉक्टर राममनोहर लोहिया और जयप्रकाश नारायण। रूसी क्रांति के नायक लेनिन के सहयोगी प्रिंस क्रोपार्टकिन ने अराजकतावाद की जो परिभाषा दी थी, उसमें अराजकतावाद का मूलाधार मानवता का पोषक रहा है। नवयुवकों से दो बातें नाम… Read more »