गठबंधन की गाँठ, असमंजस में मतदाता

Posted On by & filed under राजनीति

हिमकर श्याम राजनीति  संभावनाओं का खेल है, यहां कुछ भी असंभव नहीं. सियासत में कुछ भी स्थायी नहीं होता. यही उसका स्वभाव है. न दोस्ती, न दुश्मनी. पांच साल पहले भाजपा और जदयू  मिलकर चुनाव लड़े और प्रचंड बहुमत से जीते भी. दोनों का एजेंडा एक था. दूसरी तरफ  लालू और रामविलास थे. कांग्रेस अकेले दम मैदान में… Read more »

बिहार में विकास पर हावी जाति की राजनीति

Posted On by & filed under राजनीति

-आलोक कुमार-   बिहार में अहम राजनीतिक मुद्दों की बात की जाए तो जातिवाद बहुत ही हावी है। हर पार्टी एक खास जाति को साथ लेकर चलती है और ज्यादातर मामलों में उसी जाति को सहयोग देती नजर आती है। ऐसा यहां एक पार्टी नहीं बल्कि सभी पार्टियां करती हैं। लालू जहां यादवों के हितों… Read more »