सीमा पर सेना और बाज़ार में चीनी सामग्री की घुसपैठ?

Posted On by & filed under आर्थिकी, विविधा

तनवीर जाफ़री – भारत द्वारा चीन के साथ रिश्ते सुधारने के लिए उठाए गए अनेक कूटनीतिक कदमों के बावजूद चीन अपनी पारंपरिक विस्तारवादी नीति पर आगे बढ़ता जा रहा है। भारत-चीन व भूटान के त्रिकोणीय सीमा क्षेत्र पर स्थित सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके में पिछले जून महीने से तनाव की खबरें आ रही हैं।… Read more »

स्वादेशी मुहिम क्षणिक नहीं भावी भविष्य के लिये हो

Posted On by & filed under विविधा

जगदीश यादव कहते हैं कि मौका भी है और समय की मांग व दस्तूर भी। दम भी है, कदम भी है और सबसे बड़ी बात इच्छा शक्ति भी । इतिहास गवाह है कि पाकिस्तान की रीत दो-गला वाली रही है और उसके कथित दोस्त चीन पहले भी हमारे पीठ में छूरा घोंप चुका है। लेकिन… Read more »

खिसियानी बिल्ली खंबा नोंचे

Posted On by & filed under आर्थिकी, विविधा

अब तो चीन की उपहास भरी टिप्पणियों का जवाब यही होना चाहिए कि चीनी सामान की बिक्री जो 20 से 25 प्रतिशत घटी है वह 100 प्रतिशत तक नीचे कैसे जाए? जिस दिन भी यह चमत्कार हमने कर दिखाया उस दिन चीन को भारत के आगे नतमस्तक होने को मजबूर होना होगा। निश्चित ही यह काम कठिन है और चीन आज जो हमारा उपहास उड़ा रहा है, हमारे खिलाफ भद्दी टिप्पणियां कर रहा है, इसके पीछे का सच भी बड़ा कड़वा है।

चीनी वस्तुओं पर भारी पड़ी देशभक्ति

Posted On by & filed under विविधा

देश में पूर्व से ही कई संस्थाओं ने विदेशी सामानों का विरोध किया है और आज भी कर रहे हैं। महात्मा गांधी भी पूरी तरह से विदेशी वस्तुओं के विरोध में रहे। यहां तक कि हमारे देश में स्वतंत्रता से पूर्व देश भाव के प्रकटीकरण के लिए विदेशी वस्तुओं की होली जलाई थी, ऐसा केवल इसलिए किया गया ताकि देश में स्वदेशी का भाव प्रकट हो सके, लेकिन आज हम क्या कर रहे हैं। स्वयं ही विदेशी सामान खरीदकर उनको आमंत्रित कर रहे हैं। यह बात सही है कि कोई देश भारत में व्यापार करके भारत का भला नहीं कर सकता, इस व्यापार के माध्यम से वह अपने आपको ही मजबूत करता है।

चीन की गिरगिट वाली औकात?

Posted On by & filed under विविधा

चीन ने ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी का पानी रोका अब हम सब चीन की कोई भी प्रोडक्ट बाजार से न खरीदें अब हम सब भारतवासी हैं तो चीन को सबक सिखाने का इससे अच्छा मौका कभी नहीं मिलेगा। आज पुरी दुनिया में चाईनीज चीजों का बोल बाला है और यह हम सब जानते हैं। बाजारों में जहां नजर उठाकर देखो वहीं चाइनीज चीजें ही दिखाई देती हैं।