चे ग्वेवारा पूजनीय हैं, लेकिन भारत माता और सरस्वती नहीं???

Posted On by & filed under राजनीति

पाखण्ड और सत्ता के अभिमान से भरे हुए वामपंथी कार्यकर्ताओं ने सभी जूतों को नष्ट कर दिया और दुकान से बाकी का माल दिल्ली वापस भेजने के निर्देश दे दिये। क्या कहा? पुलिस?…… जी हाँ पुलिस थी ना… दुकान के बाहर तमाशा देख रही थी। भई, जब माकपा का कैडर कोई “जरुरी काम” कर रहा हो तब भला पुलिस की क्या औकात है कि वह उसे रोक ले।