मैडम मोरी मैं नहीं कोयला खायो

Posted On by & filed under व्यंग्य

राम कृष्ण खुराना मैडम मोरी मैं नहीं कोयला खायो ! विपक्षी दल सब बैर पडे हैं, बरबस मुख लिपटायो ! चिट्ठी-विट्ठी इन बैरिन ने लिखी, मोहे विदेस पठायो ! मैं बालक बुद्धि को छोटो, मोहें सुबोध कांत फसायो ! हम तो कुछ बोलत ही नाहीं, सदा मौन रह जायो ! इसीलिए मनमोहन सिंह से मौन… Read more »