साम्प्रदायिक सद्भाव एक मृग मरीचिका

Posted On by & filed under समाज

राष्ट्रवाद को झुठलाने की एक और घटना जब सितम्बर 2008 में बटला हाउस (दिल्ली) में आजमगढ़ के आतंकियों को मारा गया तो उसमे दिल्ली पुलिस के शूरवीर इंस्पेक्टर के बलिदान को ही संदेहात्मक बना दिया और (छदम्) धर्मनिरपेक्षता के नाम पर मुस्लिम आतंकियो के घर आजमगढ़ जाने की नेताओं में होड़ ही लग गयी थी। यहा तक समाचार आये थे कि उस समय सत्ता के शीर्ष को नियंत्रित करने वाली सोनिया गांधी ने भी आजमगढ़ के आतंकवादियों पर आंसू बहायें थे ।

अधर्म है दूसरों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाना

Posted On by & filed under समाज

पृथ्वी पर बसने वाली मानवजाति सहस्त्राब्दियों से हज़ारों धर्मों तथा लाखों आस्थाओं एवं विश्वासों के साथ अपना जीवन गुज़ारती आ रही है। प्रत्येक इंसान के पूर्वजों ने उसे विरासत में जो भी धर्म या विश्वास हस्तंातरित किया है वह प्राय: उसी धर्म,विश्वास,विचारधारा,रीतिरिवाज तथा परंपरा का अनुसरण करता आ रहा है। कहने को तो सभी धर्म,… Read more »

सांप्रदायिक सौहाद्र का प्रतीक बना एक और मुस्लिम उद्योगपति

Posted On by & filed under सार्थक पहल

निर्मल रानी राजस्थान स्थित रणथभौर नामक स्थान वैसे तो पूरे विश्व में देश के एकमात्र सबसे बड़े ‘टाइगर रिज़र्व क्षेत्र के रूप में जाना जाता है। परन्तु पिछले दिनों रणथभौर का यही क्षेत्र हिन्दू-मुस्लिम सा प्रदायिक सद्भाव का भी एक ज्वलंत उदाहरण बना। रणथभौर टाइगर रिज़र्व क्षेत्र के अन्तर्गत एक ऐतिहासिक एवं प्राचीन मंदिर स्थित… Read more »

सांप्रदायिक सद्भाव के प्रतीक

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

ओ. पी. उनियाल मित्रता एवं सांप्रदायिक सद्भाव के प्रतीक मजार एवं गुरुध्दारा। जिनका धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व अपने आप में एक उदाहरण हैं। दर्शनार्थी टेकते हैं मत्था और मांगते हैं मन्नतें इन दोनों स्थलों पर। दोस्ती की सालों पुरानी परंपरा को आज भी निभा रहे हैं श्रध्दालु। एक तरफ उत्तराखंड की सीमा तो दूसरी तरफ… Read more »