शायद पार्टी ही कन्फ्यूज है राहुल के भविष्य पर

Posted On by & filed under राजनीति

पहली बार नेता और मुख्यमंत्री बने केजरीवाल की मति पर पड़े भाटे तो समझ में आते हैं किन्तु राजीव गांधी जैसे दूरदर्शी के पुत्र होकर भी ऐसी बचकानी बातें करना अनेक बातों की तरफ़ स्पष्ट इशारा है।पार्टी में पहली पंक्ति के जिम्मेदारों कॊ इस गम्भीर्य कॊ समझने की नितांत आवश्यकता है कि क्या वाकई राहुल में अब भी अच्छे संगठक के गुण हैं..। कहने में कोई गुरेज नही कि नसीब और कर्म से इन्हें भविष्य में जो भी मिले,पर पार्टी कॊ अभी तो नुकसान सामने ही है..