लेखक परिचय

अन्नपूर्णा मित्तल

अन्नपूर्णा मित्तल

एक उभरती हुई पत्रकार. वेब मीडिया की ओर विशेष रुझान. नए - नए विषयों के लेखन में सक्रिय. वर्तमान में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में परस्नातक कर रही हैं. समाज के लिए कुछ नया करने को इच्छित.

Posted On by &filed under चुटकुले.


टीचर (क्लास मे पढाते हुए) – “बच्चो आयकर- बिक्रीकर- भूमिकर से मिलता झुलता कोइ और शब्द बताओ।”

निशु- “सर, एक नही तीन शब्द सुने- सुनील गावासकर- सचिन तैंदुलकर और दिलीप वेंगसरकर।”


टीचर (मिन्नी से) – “आज स्कूल मे देर से आने का तुमने क्या बहाना ढूंढा है?”

मिन्नी – “सर आज मै इतनी तेज दौड कर आई कि बहाना सोचने का मौका ही नही मिला।”


टीचर -” बाबर भारत मे कब आया?”

बंटी – “पता नही सर।”

टीचर – ” बोर्ड पर नही देख सकते- नाम के साथ ही लिखा है।”

बंटी – मैने सोचा, शायद वह उसका फ़ोन नम्बर है।”


टीचर ने दूसरी कक्षा के एक बच्चे से कहा – मैने कल तुम्हें जो हिंन्दी मे पाठ पढाया था, उसे सुनाओ बच्चों ने कहा – टीचर आता नही है।

इस पर टीचर ने कहा – नही आता तो ऐसा करो जो आता है वही सुनाओ ।

बच्चे ने कहा – मुझे तो गाना आता है वही सुना दूँ ?


टीचर – बच्चो बताओ कि दूध को खराब होने से बचाने के लिए क्या करना चाहिए?

सोनू – जी उसे पी लेना चाहिए।


टीचर – विनोद, एक मुर्गी रोज दो अण्डे दे तो वह सप्ताह मे कितने अंडे देगी?

विनोद – सर, बारह ।

टीचर – वह कैसे।

विनोद – जी- वह रविवार की छुट्टी भी तो मनाएगी न सर


टीचर – हरीश बताओ, अकबर ने कब तक शासन किया था?

हरीश पेज नम्बर -14 से लेकर पेज 20 तक।


टीचर – “ हर सफल आदमी के पीछे एक औरत का हाथ होता है ” इस वाक्य से तुम क्या समझते हो ?

चिंटू – यही कि किताबों में टाइम वेस्ट करने से बेहतर है किसी लड़की के पीछे जाना …. !


टीचर – तुम किस खानदान से हो ?

राहुल – जानवरों के !

टीचर – क्या मतलब ?

राहुल – पापा मुझे उल्लू का पट्ठा, मम्मी मुझे गधा, दादाजी शेर का बेटा और दादीजी बन्दर कहती हैं …. !!!


टीचर – रहीम और मीरा का कोई दोहा सुनाओ!

चिंटू – गंगा के घाट पे घटना घटी – रहीम ले गया मीरा की पप्पी और फस गए संत कबीर!


स्कूल के पीछे नदी में प्रिंसिपल डूब रहा था!

सुरेश ने देखा और जोर जोर से चिल्लाते हुये भागा!

.

.

.

कल छुट्टी है!

कल छुट्टी है!


टीचर तुम किस लिये कॉलेज आते हो ?

पप्पू – विद्या के लिए

टीचर – तो अब सो क्यू रहे हो?

पप्पू – आज विद्या नही आयी आयी सर


टीचर – अगर दुनिया की सारी औरतों के चहरे एक जैसे होते तो क्या होता?

पप्पू – होना क्या था सर, गैस सिलेंडर की तरह आज इसके घर कल उसके घर!


टीचर – इतने दिनों से कहाँ थे?

पककू – बर्ड फ्लू था!

टीचर – पर ये तो बर्ड को होता है!

पककू (गुस्से में) – इंसान समझा ही कहाँ है आपने, रोज़ तो मुर्गा बनाते हो!


टीचर – इसे पूरा करो! 900 चूहे खा के, बिल्ली ____ चली?

पककू – 900 चूहे खा के, बिल्ली टेडी टेडी चली?

टीचर – ओये! तुझे पता नहीं इसका जवाब?

पककू – आपके साथ तो मैंने फिर भी लिहाज कर लिया, नहीं तो 900 चूहे खा के बिल्ली चल भी नहीं सकती!


टीचर – अगर इरादा पक्का हो तो जो हासिल करना चाहो वो ज़रूर मिलता है!

पंकज – रहने दो मिस, और अगर ऐसा होता तो आप मेरी मिस नहीं मिसिज़ होती!


Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz