लेखक परिचय

निर्मल रानी

निर्मल रानी

अंबाला की रहनेवाली निर्मल रानी कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से पोस्ट ग्रेजुएट हैं, पिछले पंद्रह सालों से विभिन्न अखबारों, पत्र-पत्रिकाओं में स्वतंत्र पत्रकार एवं टिप्पणीकार के तौर पर लेखन कर रही हैं...

Posted On by &filed under महिला-जगत.


निर्मल रानी

नई दिल्ली में गत् 16 दिसंबर की रात एक 23 वर्षीय छात्रा के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म तथा उसकी सिंगापुर में हुई मौत के बाद जहां देश व दुनिया में इसकी घोर निंदा की जा रही है तथा ऐसे बलात्कारियों के विरुद्ध कठोरतम सज़ा का प्रावधान किए जाने की मांग की जा रही है वहीं देश के कई तथाकथित संत-महात्मा,राजनीतिज्ञ, व जाने-माने लोग इस अति संवेदनशील व गंभीर विषय पर अपने तरह-तरह के हास्यास्पद व विवादास्पद बयान देने से बाज़ नहीं आ रहे हैं। विभिन्न प्रकार की नकारात्मक बातें भी की जा रही हैं। इस क्रम में जहां राष्ट्रीय स्वयं सेवक के प्रमुख एवं सांस्कृतिक राष्ट्रवादी विचारधारा के स्वयंभू संरक्षक मोहन भागवत ने देश की शहरी संस्कृति व सभ्यता पर निशाना साधते हुए यह कहा था कि बलात्कार इंडिया में अधिक होते हैं भारत में नहीं। गोया उनके कहने का सीधा तात्पर्य यही था कि आधुनिकता व प्रगतिशीलता के इस युगा में भी देश की महिलाएं कल्पना चावला व सुनीता विलियम्स तथा किरण बेदी जैसी शिक्षित महिलाओं को अपना आदर्श मानने के बजाए आज भी गांव की सीधी-सादी, भोली-भाली व खेती,पशुपालन व चूल्हा-चक्की में लगी रहने वाली महिलाओं का ही अनुसरण करें।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के ही दूसरे सदस्य तथा मध्यप्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के नेता व प्रदेश के एक प्रमुख मंत्री विजयवर्गीय ने तो दिल्ली गौंगरेप के संदर्भ में यहां तक कह डाला कि यदि लक्ष्मण रेखा का उल्लंघन होगा तो सामने रावण आ ही जाएगा। गोया उन्होंने महिलाओं को सीमाओं के भीतर रहने की हिदायत दी। भागवत व विजयवर्गीय दोनों के बयानों में समानता है। यह तथाकथित सांस्कृतिक राष्ट्रवादी आज भी रूढ़ीवादी सोच में जकड़े हुए हैं तथा महिलाओं को भी मात्र बंधक,$ गुलाम या दासी बनाकर रखे जाने के ही पक्षधर हैं। तभी तो मोहन भागवत कई जगहों पर अपने स्वागत के दौरान महिलाओं से अपने चरण धुलवाते देखे गए हैं। यानी नारी को दासी बनाए रखने की यही प्राचीन प्रथा इन्हें सुहाती है। औरतों का स्कूल-कॉलेज जाना,शिक्षित होना, आत्मनिर्भर होना,आधुनिकता के मार्ग पर चलना शायद इन्हें रास नहीं आता। इसके बावजूद दुर्गावाहिनी तथा अन्य महिला प्रकोष्ठ बनाकर यही संघ महिलाओं में सांप्रदायिकता का ज़हर भरने तथा इन्हें आत्मरक्षा के नाम पर सांप्रदायिक दंगों में सक्रिय होने का प्रशिक्षण देने से भी बाज़ नहीं आता।

अब एक और धर्म व अध्यात्म का कथित पाठ पढ़ाने वाले संत आसाराम ने इसी गैंगरेप कांड के संदर्भ में कुछ ऐसी निरर्थक व महिलाओं के प्रति असम्मानजनक बातें की हैं जिससे न केवल महिलाओं को आसाराम बापू के वक्तव्य से घोर निराशा हाथ लगी है बल्कि इससे उनकी भी महिला विरोधी मानसिकता का सा$फ पता चल गया है। $गैरतलब है कि आसाराम स्वयं भी कई बार महिला उत्पीडऩ तथा व्यभिचार संबंधी मामलों में मीडिया व समाचार पत्रों के निशाने पर रह चुके हैं। परंतु उनके ऊंचे रुसू$ख तथा धनबल व बड़े पैमाने पर उनके अनुयायी होने के चलते बार-बार वे ऐसी घटनाओं पर पर्दा डालने में सफल रहे हैं। परंतु अपनी महिला विरोधी घटिया मानसिकता से वे बाज़ आने का अब भी नाम नहीं लेते। दिल्ली कांड के संदर्भ में संत आसाराम की राय है कि मृतक व पीडि़ता लडक़ी को उन बलात्कारी दरिंदों में से किन्हीं दो को अपना भाई बना लेना चाहिए था। उनके पैर पकडक़र उनसे सहायता की गुहार करनी चाहिए थी।

इतना ही नहीं बल्कि यह कथित संत यह भी $फरमाते हैं कि तालियां दोनों हाथों से बजती हैं। गोया इस दरिंदगीपूर्ण घटना में मृतक लडक़ी भी बलात्कारियों व कातिलों के साथ-साथ बराबर की दोषी थी। ऐसा मानना है घोर निराशा फैलाने वाले आसाराम का। वे यह भी कहते हैं कि लडक़ी को घटना के समय ईश्वर का नाम लेना चाहिए था। इतना ही नहीं बल्कि एक ओर जबकि पूरा देश इस हादसे से स्तब्ध है, पूरे देश में इस घटना को लेकर व्यापक रूप से $गुस्से की लहर दौड़ती देखी जा रही है तथा पूरा देश एक स्वर से कठोरतम $कानून बनाने की मांग कर रहा है। यहां तक कि ऐसे बलात्कारियों को फांसी की सज़ा दिए जाने की मांग तक ज़ोर पकड़ रही है ऐसे में संत आसाराम फांसी जैसे स$ख्त $कानून के विरुद्ध खड़े हो गए हैं। उनकी हमदर्दी फांसी पर लटकाए जाने वाले दुष्कर्मियों के परिवारजनों के साथ है। वे कहते हैं कि जिसको फांसी दी जाती है उसकी पत्नी,मां-बाप,बहन-भाई और बच्चे जीते-जी मर जाते हैं।

बहरहाल, आसाराम के इस विवादास्पद बयान के बाद पूरे देश में उनके विरुद्ध आक्रोश फैल गया है। यहां तक कि उनके गृह राज्य गुजरात में उनके विरुद्ध कई स्थानों पर प्रदर्शन किए गए तथा अहमदाबाद के यशोदानगर क्षेत्र में प्रदर्शनकारियों द्वारा उनका पुतला भी फंूका गया। अहमदाबाद में ही उनके पोस्टर में उनके मुंह पर कालिख पोती गई। बिहार के मुज$फ्$फरपुर में उनके इसी वक्तव्य हो लेकर एक अदालत में महिलाओं के स्वाभिमान पर सीधा कुठाराघात करने संबंधी मु$कद्दमा भी दर्ज हुआ है। परंतु अपने कटु एवं विवादित तथा महिला विरोधी वचनों को संभवत: ईश्वरीय वचन समझने वाले इस विवादित तथाकथित संत को अपनी आलोचना सुनना पसंद नहीं आया। और उपरोक्त विवादित बयान दिए जाने के बाद तथा इन बयानों पर आने वाली प्रतिक्रियाएं, आलोचनाएं, तथा अपने विरुद्ध हो रहे व्यापक आक्रोश व प्रदर्शन की $खबरें सुनने के बाद उन्होंने अपने अगले ‘प्रवचन’ में अपने आलोचकों को कुत्ता तक कह डाला।

उन्होंने कहा कि ‘जब हाथी चलता है तो पहले एक कुत्ता भौंकता है, फिर दूसरा भौंकता है और जल्द ही पड़ोस के सभी कुत्ते भौंकने लगते हैं। यदि हाथी कुत्तों के पीछे दौड़ता है तो कुत्तों का महत्व बढ़ता है। इस वजह से हाथी पीछे नहीं मुड़ता। बल्कि आगे ही बढ़ता जाता है। लिहाज़ा मुझे क्यों कुत्तों के पीछे लगना चाहिए’। आसाराम ने अपने अति निम्रसतरीय प्रवचन को यहीं पर नहीं रोका बल्कि उन्होंने स$ख्त $कानून बनाए जाने के संदर्भ में एक ऐसा वाक्य प्रयोग किया जिसमें औरत के साथ उन्होंने ‘बाज़ारू’ शब्द का भी इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा कि लोग एक-दूसरे को नीचा दिखाने के लिए $कानून का दुरुपयोग कर सकते हैं और इसके लिए ‘बाज़ारू’ औरतों का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

पूरे देश को भी भलीभांति मालूम है कि बच्चों की हत्याओं, संपत्ति विवाद, अनधिकृत रूप से अपने आश्रम के लिए ज़मीन पर $कब्ज़े किए जाने तथा व्याभिचार संबंधी अनेक मामलों में आसाराम तथा उनके पुत्र दोनों के ही नाम कई बार उजागर हो चुके हैं। परंतु अपने ‘लंबे हाथों’ के चलते बार-बार इनके विरुद्ध कई मामले रफा-दफा हो गए तथा कई अब भी विचाराधीन हैं। सवाल यह है कि ऐसा संत आखिर इतना संदिग्ध, विवादित तथा बड़बोला होने के बावजूद भी क्योंकर लोगों को अपनी ओर आकर्षित करता है? यदि हम इस विषय पर गहरी नज़र डालें तो इसमें भी हमें सबसे अधिक दोष महिलाओं का ही मिलेगा। महिला विरोधी मानसिकता रखने वाले ऐसे एक आसाराम ही नहीं बल्कि तमाम तथाकथित संतों, सांस्कृतिक राष्ट्रवादियों, रूढ़ीवादियों तथा महिला विरोधी मानसिकता रखने वाले लोगों को दरअसल महिलाएं ही प्रोत्साहित करती हैं। इनके सत्संगों, प्रवचनों तथा इनकी सभाओं में जाकर महिलाएं ही बेवजह तथा बिना किसी बात को समझे-बूझे हुए कई महिलाएं नाचने लगती हैं तो कभी तालियां बजाती रहती हैं। महिला विरोधी मानसिकता रखने वाले तथा राक्षसी प्रवृति के ऐसे तमाम लोगों को महिलाएं भी भगवान समझने लगती हैं। इतना ही नहीं तमाम अंधभक्त महिलाएं तो इनके चरणों के धुले हुए पानी को भी अमृत समझकर पी जाती हैं। तमाम महिलाएं इनके आश्रमों की दासियां बने रहने में स्वयं को गौरवान्वित महसूस करती हैं। ऐसे लोगों के चित्र अपने घरों के मंदिरों में महिलाएं इस प्रकार स्थापित करती हैं गोया भगवान या किसी देवी-देवता का चित्र स्थापित कर दिया गया हो।

ज़ाहिर है अपना इतना अधिक आदर, मान-सम्मान व असीमित सत्कार होता देख आसाराम क्या कोई भी व्यक्ति स्वयं को ईश्वर, भगवान या देवता ही समझने लगेगा। और उसके पश्चात वह अपनी मानसिकता के अनुरूप जब और जो चाहेगा बकवास करता रहेगा और यह उम्मीद भी रखेगा कि उसके मुंह से निकले प्रत्येक अपशब्द को भी ईश्वरीय वचन के रूप में हमारे अंधभक्त स्वीकर करें। और जो इनकी आलोचना करे वह ‘कुत्ते’ के समान है। महिलाओं को नीचा दिखाने वाले ऐसे महापुरुष अपनी तुलना हाथी जैसे जानवर से भी करने लग जाते हैं। उनके पूरे वक्तव्य में मुझे तो सुखद केवल यही लगा कि उन्होंने भले ही हाथी से अपनी तुलना की परंतु कम से कम अपने जानवर होने का एहसास तो उन्होंने व्यक्त कर ही दिया। अपने आलोचकोंं को उनहोंने कुत्तों की संज्ञा भी ज़रूर दी परंतु संभवत: उन्हें कुत्तों की व$फादारी का ज्ञान नहीं है। कुल मिलाकर देश की महिलाओं द्वारा ऐसे लोगों से न केवल सचेत रहने बल्कि इनका बहिष्कार करने तथा जगह-जगह पर इनका प्रबल विरोध किए जाने की स$ख्त ज़रूरत है। दरअसल यह वही पीर हैं जिनके बारे में यह कहा गया है कि औरतों का पीर कभी भूखा नहीं मरता। लिहाज़ा अब औरतों को संगठित होकर ऐसे निचली मानसिकता रखने वाले तथाकथित पीरों को यह बता देना चाहिए कि अब औरतें मानसिक रूप से शिक्षित व जागरूक हो चुकी हैं तथा अब वह किसी ऐसे ढोंगी संतों, महात्माओं एवं कथित राष्ट्रवादियों के अध्यात्मवाद या राष्ट्रवाद के ढोंगपूर्ण झांसों में नहीं आने वाली।

Leave a Reply

1 Comment on "महिला विरोधी मानसिकता रखने वालों का महिलाएं करें बहिष्कार"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
इक़बाल हिंदुस्तानी
Guest

ek bar thg ntvr lal ne kahaa tha ke jb तक logo में lalch maujood है tb तक उनकी ठगी को कोइ रोक नही सकता . ऐसा ही मामला आसाराम का है जो उन ही महिला भक्तो की मौजूदगी में ही उनको कोसता है और फिर भी वे उसका गुणगान करती रहती हैं.

wpDiscuz