लेखक परिचय

एल. आर गान्धी

एल. आर गान्धी

अर्से से पत्रकारिता से स्वतंत्र पत्रकार के रूप में जुड़ा रहा हूँ … हिंदी व् पत्रकारिता में स्नातकोत्तर किया है । सरकारी सेवा से अवकाश के बाद अनेक वेबसाईट्स के लिए विभिन्न विषयों पर ब्लॉग लेखन … मुख्यत व्यंग ,राजनीतिक ,समाजिक , धार्मिक व् पौराणिक . बेबाक ! … जो है सो है … सत्य -तथ्य से इतर कुछ भी नहीं .... अंतर्मन की आवाज़ को निर्भीक अभिव्यक्ति सत्य पर निजी विचारों और पारम्परिक सामाजिक कुंठाओं के लिए कोई स्थान नहीं .... उस सुदूर आकाश में उड़ रहे … बाज़ … की मानिंद जो एक निश्चित ऊंचाई पर बिना पंख हिलाए … उस बुलंदी पर है …स्थितप्रज्ञ … उतिष्ठकौन्तेय

Posted On by &filed under व्यंग्य.


 एल आर गाँधी 

नितीश मियां के दो ‘ वफादारों ‘को लालू मियां ने अल्शेशन क्या कहा के दोनों बुरा मान गए और लालू पर ठोक दिया इज्ज़त हतक का दावा …देसी बफदारों को विदेशी अल्शेशन कहा …बहुत बदतमीज़ी है ..

धर्मनिरपेक्ष बोले तो सेकुलरिज्म की ठोस प्रतीक छिद्र्नुमा अरबी टोपी पहन कर लालू ने गाँधी मैदान से नितीश को ललकारा …तूं डाल डाल ,मैं पात पात …तो नितीश कहाँ पीछे रहने वाले थे ..झट से मियां नवाज़ शरीफ को बिहार तशरीफ़ लाने  का न्योता दे डाला …लालू के ‘उर्दू बैनर ‘ लटके रह गए …

यका यक हमारे चौथे खम्भे के वाच डाग आइ पी एल के बेचारे श्री शान्तों की चीर फाड़ में मुश्गूल हो गए हैं ..एक कम मोल बीके खिलाडी ने ‘उपरी ‘ कमाई की हिमाकत जो कर डाली .. बेचारे केजरीवाल मुफ्त मुफ्त में श्री की रन लुटाऊ बाल पर हिट  विकेट हो गए …बड़े जतन से वोडाफोन के कपिल -कनेक्शन का १ १ ० ० ० करोड़ का महा घोटाला लाए थे …मगर कपिल की सरकारी चपाती चाट रहा ‘वाच डाग ‘ मिडिया ….श्री के २ ० -५ ० लाख की चोरी -चकारी पर ही पिला रहा . ..हमारे राजनेताओं ने लगता है मिडिया की ‘श्वान वृति ‘ को बखूबी जान पहचान लिया है …बचपन में जब देर रात हम दूकान से अपनी ड्यूटी दे कर घर लौटते तो रास्ते में गली के आवारा कुतों से बहुत डर लगता था ..धीरे धीरे हमने भी इनकी श्वान वृति को पहचान लिया …अपनी जेब में चंद गुड की डलियाँ रखते …जब  कुत्ते हमारी ओर लपकते , हम एक गुड की डली उन की तरफ उछाल देते …वे गुड पर लपकते और हम खिसक लेते …

netaश्री नाथ की इस महान शहादत का उसे इनाम तो बनता है मेरे भाई …..पिक्चर अभी बाकी है …जो इनाम ऐसी ही शहादत पर नौजवान खिलाडियों  के रोल माडल महान क्रिक्टर मियां अजहरुदीन को मिला था …श्री नाथ को भी मिलेगा ….२ ० १ ४ के लोक सभा चुनाव तो आने दो …हमारा ‘हाथ’ अपने जैसों के साथ ! 

 

 

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz