लेखक परिचय

गोपाल बघेल 'मधु'

गोपाल बघेल 'मधु'

President Akhil Vishva Hindi Samiti​ टोरोंटो. ओंटारियो, कनाडा

Posted On by &filed under कविता, साहित्‍य.


तरंगों में फिरा सिहरा, तैरता जो रहा विहरा;
विश्व में पैठ कर गहरा, पार आ देता वह पहरा !

परस्पर राग रंगों में, रगों में रक्त दे जाता;
मनों में मुक्ति भर जाता, भुक्त कर तृप्त कर जाता !
कभी निर्गुण में गुण भरता, सगुण बन कभी नच जाता;
किए चैतन्य सब सत्ता, वही मूर्द्धन्य सुर देता !

ध्यान करवा वही जाता, ज्ञान वह ही तो दे जाता;
कर्म अनुरक्त कर तकता, धर्म धारण करा जाता !
द्वैत के द्वार ढक जाता, दिखा अद्वैत फुर जाता;
‘मधु’ की मन मही महरा, वही आकाश चित फहरा !

tirangaगोपाल बघेल ‘मधु’

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz