लेखक परिचय

राकेश कुमार आर्य

राकेश कुमार आर्य

'उगता भारत' साप्ताहिक अखबार के संपादक; बी.ए.एल.एल.बी. तक की शिक्षा, पेशे से अधिवक्ता राकेश जी कई वर्षों से देश के विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में स्वतंत्र लेखन कर रहे हैं। अब तक बीस से अधिक पुस्तकों का लेखन कर चुके हैं। वर्तमान में 'मानवाधिकार दर्पण' पत्रिका के कार्यकारी संपादक व 'अखिल हिन्दू सभा वार्ता' के सह संपादक हैं। सामाजिक रूप से सक्रिय राकेश जी अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और अखिल भारतीय मानवाधिकार निगरानी समिति के राष्ट्रीय सलाहकार भी हैं। दादरी, ऊ.प्र. के निवासी हैं।

Posted On by &filed under राजनीति.


-राकेश कुमार आर्य-
2014-election-india..

इतिहास में नया अध्याय पलटना बड़ा सरल है, परंतु नया इतिहास लिखना बड़ा कठिन है। वैसे इतिहास की भी ये प्रकृति और प्रवृति है कि वह कदमताल करते काल को धक्का देकर उसकी गति बढ़ाने के लिए समकालीन समाज को प्रेरित भी करता है और आंदोलित भी। …और यही हुआ है भारत के साथ, इन 2014 के आम चुनावों में। देश का नेत्रत्व कालपटल पर पिछले 30 वर्ष से जिस प्रकार कदमताल कर रहा था, उस प्रमादी, आलसी और संघर्ष के प्रति पूर्णतः उदासीन नेत्रत्व के विरुद्ध भारतीय समाज को स्वयं इतिहास ने प्रेरित और आंदोलित किया कि यदि मेरा नया अध्याय देखना चाहते हो तो बदल दो निज़ाम को।

इतिहास की इस अकुलाहट को नरेंद्र मोदी ने समझा और जनता की अपेक्षाओं व इतिहास के यक्ष प्रश्न के उत्तर के रूप में स्वंय को उन्होंने प्रस्तुत किया। अग्निपरीक्षा में मोदी सफल हुए और इतिहास ने अपना नया अध्याय लिखना आरंभ कर दिया। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने नया इतिहास लिखने की बात कही है। उनकी यह बात आज सटीक लगती है क्योंकि नया इतिहास लिखने के लिए अपेक्षित अग्निपरीक्षा की प्रक्रिया से सफलतापूर्वक मोदी बाहर निकल आए हैं, पर बात तो ये है कि इस अग्निपरीक्षा से मोदी और भारतीय नेत्रत्व को गुजरने के लिए इतिहास को बाध्य किसने किया? किसने लहर बनाई मोदी की और किसने उसे लहर से सूनामी में बदल दिया? इस पर यदि गौर करें तो ऐसा करने में यूपीए शासन के घोटालों ने तात्कालिक आधार पर अपना विशेष योगदान दिया। इन घोटालों में प्रमुख है:-

एक लाख अटहत्तर हजार करोड़ का 2जी स्पेक्ट्रम घोटाला, सत्तर हज़ार करोड़ का कॉमनवेल्थ घोटाला, आदर्श सोसाइटी घोटाला, एस बैंड/देवास एंट्रिक्स घोटाला, केजी बेसिन घोटाला, 22.5 लाख रुपए स्विस बैंक घोटाला, चावल निर्यात घोटाला, सत्यम घोटाला, पीडीएस राशन घोटाला, टेलीकॉम जुर्माना घोटाला, रक्षा सौदों में घोटाला, आईपीएल घोटाला, कोयला खदान आवंटन घोटाला। ये नाम महाघोटालों के हैं, छोटे-मोटे घोटाले तो इस देश में वैसे ही नहीं पकड़े जाते, जैसे कोई थानाध्यक्ष किसी गरीब की बलात्कार तक की रपट को दर्ज नहीं करता। जैसे गरीब के खिलाफ अमीर को अत्याचार करने का “खुला लाइसेन्स” इस देश में प्राप्त हो गया मान लिया गया था वैसे ही दस बीस सौ पचास करोड़ के घोटालों का तो जिक्र करना भी घोटालों का अपमान दिखने लगा था- यूपीए के शासन में। इसलिए कांग्रेस के नेता कमलनाथ का यह कहना बहुत ही उचित है कि देश के लोग यूपीए के शासन से थक चुके थे। इसे थोड़ा और सुधारा जा सकता है कि लोग यूपीए के शासन से ही नहीं थक गए थे, बल्कि रोज-रोज के घोटालों ने उन्हें निज़ाम बदलने के लिए अंदर तक मथ डाला था। इस मंथन से ही मोदी नाम का अमृत लोगों को इन चुनावों में मिला है।

हर कदम पर घोटाला, हर कदम पर घालमेल, कहीं किसी का यकीन नहीं, कहीं किसी पर भरोसा नहीं। इस स्थिति से देश उकता गया था। भाजपा ने चाहे बेशक विकास के नाम पर वोट मांग कर इस चुनाव में मिली अभूतपूर्व सफलता को भी विकास के अपने नारे के साथ नत्थी कर दिया हो, परंतु सच ये है कि चुनाव में विकास का नारा भी पीछे छूट गया और लोगों ने “विनाश” के तांडव नृत्य के विरुद्ध वोट देकर भाजपा को सफलता प्रदान की। यह विनाश आर्थिक क्षेत्र में ही नहीं था, सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्रों में भी था। देश में हिन्दू विरोध की राजनीति का नाम धर्मनिरपेक्षता कर दिया गया था। राजनीति के सारे मठाधीश इसी अतार्किक और अन्यायपरक राजनीति को अपनाकर आगे बढ़ रहे थे, परिमाणस्वरूप देश के बहुसंख्यक समाज ने ध्रुवीकरण की राजनीति का सहारा लिया। अभी तक मुस्लिम मतों के ध्रुवीकरण ने कई बार सत्ता परिवर्तन किया था, परंतु पहली बार देश में बहुसंख्यक हिन्दू समाज ने मतों का ध्रुवीकरण कर इतिहास बनाया है। वैसे हमारे दृष्टिकोण में यह ध्रुवीकरण सज्जनशक्ति का ध्रुवीकरण था, जो इतिहास में बिरले अवसरों पर ही देखने को मिला करता है। यह दुःखद तथ्य है कि मोदी लहर या सुनामी के नाम पर भाजपा भी सज्जनशक्ति के इस अनोखे ध्रुवीकरण के प्रामाणिक तथ्य की उपेक्षा कर रही है। जबकि यह तथ्य घातक है और इसे आगे आने वाली पीढ़ियों के लिए एक नजीर के रूप में महिमामंडन से लोकचेतना को उपेक्षित करने या मरने का खेल पूर्व में हमने कई बार खेल-खेल कर देख लिया है, उसके परिणाम हमारे लिए अच्छे नहीं आए हैं।

मोदी निस्संदेह हमारी लोकचेतना के प्रतिनिधि हैं। परंतु यह भी अभी निश्चित हो जाना चाहिए कि हमारी लोकचेतना क्या है और उसकी पुष्टि क्यों और किसलिए आवश्यक है? यदि मोदी लोकचेतना की संपुष्टि करने के अपने इस कार्य में सफल हो गए तो वह “राम-राज्य” की स्थापना के मर्म को समझ जाएंगे और लोगों के लिए वह महामानव से भी ऊपर हो जाएंगे। इस देश ने लोकचेतना की संपुष्टि करने वालों को ही भगवान माना है और उन्हें अपना आदर्श माना है। जिन लोगों ने लोकचेतना अर्थात सज्जनशक्ति के ध्रुवीकरण से अद्भुत परिणामों को अपने नाम लिखाने के लिए इतिहास को बाध्य किया है, उन्हें एक बार तो चाहे भले ही सम्मान मिल गया हो परंतु कुछ काल उपरांत उन्हे इस प्रकार मिले सम्मान से हाथ धोना पड़ा है।
आज कांग्रेस के कई आदर्श पुरुषों को अपना सम्मान बचाना कठिन हो रहा है। कांग्रेस के इन आदर्श पुरुषों के स्मारकों को भी लोग सम्मान से नहीं देख रहे हैं। गांधी, नेहरू, इन्दिरा गांधी, राजीव गांधी के प्रति लोगों के मन मस्तिष्क में निश्चय ही सम्मान भाव कम हुआ है। इसका कारण यही है कि भारत की लोकचेतना के और भारत मां के वीर प्रस्विनी होने के युग-युग पुराने आदर्श को झुठलाकर कांग्रेस ने अपने इन आदर्श पुरुषों को बलात देश पर थोपने का प्रयास किया है। महापुरुषों का सम्मान किया जाना एक अलग बात है और महापुरुषों पर देश की लोकचेतना को पूर्णतः नकार देना एक अलग बात है।

इस चुनाव के परिणामों ने देश के नेताओं को यही शिक्षा दी है कि झूठे मिथक मत गढना अपितु राष्ट्रदेव की मूर्ति गढ़ना और राष्ट्रदेव की मूर्ति के महंत बनकर सम्मान पाना, सचमुच अमर हो जाओगे। कोई मिथ्याचार न हो, कोई छल छद्मवाद न हो और कोई पाखंड न हो। इन चुनावों के परिणामों के इस निहित अर्थ को समझने की आवश्यकता है।

Leave a Reply

2 Comments on "चुनाव परिणामों के निहित अर्थ"

Notify of
avatar
Sort by:   newest | oldest | most voted
राकेश कुमार आर्य
Guest

मिश्रा जी आपका हार्दिक धन्यवाद

haushila mishra
Guest

Atyant sargarbhit avam chintan manan karne yogya rachna.

wpDiscuz